Bap-Dada's LATEST & FINAL part

DEDICATED to Om Mandli ‘Godly Mission’ to present posts regarding the LATEST & FINAL part of BapDada of World Purification & World TRANSFORMATION – through Divine Mother Devaki - SAME soul of 'Mateshwari', Saraswati Mama.
Zorba the Greek
Posts: 41
Joined: 03 May 2019
Affinity to the BKWSU: BK supporter
Please give a short description of your interest in joining this forum.: To engage in fruitful discussions

Bap-Dada's LATEST & FINAL part

Post by Zorba the Greek »

Versions of PrajaPita Brahma
29.06.2021

(through Mother Devaki - who gives birth to Shri Krishna‘JagadAmba’, ‘Bharat Mata’ - soul of Om Radhe, ‘Mateshwari’, Saraswati Mama)

‘ONLY ONE Yagya remains UNTIL the end - the imperishable sacrificial Fire of Knowledge of Rudra (Shiva)’

“ OK children .. BapDada's extremely Sweet Remembrance and Love to all the children. ...
Now the (speed of) expansion of Service is going to increase much faster .. VERY FAST. It is going to INCREASE from here .. but outside, everyone's heartbeat is throbbing rapidly. There are so many parties .. so, the heartbeats of everyone will definitely increase. What is throbbing? .. their hearts are throbbing .. ‘What is this that has happened .. SUDDENLY!’ *Look, it would be said .. that each of them have performed their functions .. the work of each party has been accomplished. ALL the yagyas which they had created – will now be SACRIFICED!*

The yagyas which they create from Copper Age onward are completed quickly, are they not? ..
*ONLY ONE Yagya remains UNTIL the end - the imperishable sacrificial Fire of Knowledge of Rudra (Shiva) .. which has emerged from the original, eternal Deity religion .. and this ONE Yagya remains (continues) UNTIL the end.* And all those which are created in the middle .. will continue for 5 years .. 10 years .. 15 years .. 20 years .. THEN .. Om Shanti (they will be SACRIFICED – BEFORE the end)!

*Now, the time for COMPLETION of EVERYONE’s Yagya (of ALL the various parties) has ARRIVED!* Because, when ShivBaba established this Yagya in the beginning (of Confluence Age), when the (‘Sakar’ – corporeal) part was being enacted – that was the ‘Day of Brahma’ (UNTIL 1969) .. OK? .. Then there was the ‘Night of Brahma’ (AFTER 1969) of half a Cycle (‘shooting’ of Copper & Iron Ages). *Now only a little time remains* .. it is said .. ‘when there is ONLY ONE, then it is the Day’. AS SOON AS this ONE stepped aside, for a short while .. he had to change and come back in a new form .. so, when he stepped aside, then everyone stood up and established their own Yagya. *EVERYONE COPIED Father Brahma (soul of Dada Lekhraj)!* ‘We too will establish our Yagya .. we too will establish’ .. EVERYONE established their yagyas. That is now completed. .. Yes, in the Dark Night, EVERYONE established their yagyas ..

*Now the Light has come, once again. Our Baba .. ShivBaba has come, ONCE AGAIN, and I (too) have come. Now we will sit in ONE Yagya, once again .. and what will happen to the yagyas of ALL others? They will FINISH! (they will be SACRIFICED into this ONE Yagya!)*
destroy old world
Vishnu Party
Posts: 110
Joined: 09 Jul 2007
Affinity to the BKWSU: ex-BK

Bap-Dada's LATEST & FINAL part

Post by destroy old world »

🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ शिवबाबा याद है?

शिवबाबा की वाणी
23.07.2021

[ देवकी माता द्वारा - भारत-माता, जगदम्बा - ओम राधे, मातेश्वरी, सरस्वती मम्मा की आत्मा - (जिनका एक और जन्म अमीर परिवार में हुआ था - १९६५ के बाद, और इस जन्म के पहले) - जो पहले, श्री कृष्ण को सतयुगी जन्म देती है, फिर २-३ साल के बाद अपना सतयुगी जन्म अलग परिवार में लेती है - और श्री कृष्ण की पालना, अलग (यशोदा) माता और पिता द्वारा होता है! ]

"मीठे बच्चे .. गायन है ना - भगवान जब आएगा तो साधारण वेश में आएगा, और उसको कोई में भी कोई, कोटों में भी कोई पहचानेंगा। तो आज वो समय है, आज वो घड़ी है कि एक बाप अपने बच्चों से मिलन मनाने पहुँच गया है।"

Link: https://www.youtube.com/watch?v=UZ4LNRgpkko

अच्छा .. आज बापदादा अपने अति प्यारे, सच्चे स्नेही बच्चों से मिलन मनाने आए हैं। आज का दिन बच्चों के लिए विशेष दिन है, भाग्यशाली दिन है। आज बाप अपने प्यारे-प्यारे बच्चों से मिलन मनाने आए हैं। अभी सब दिशाएँ, हर एक दिशा से आवाज निकलेंगा – ‘मेरा बाबा आ गया’। *समय परिवर्तन हुआ है, पर मधुबन वाला बाप कैसे परिवर्तन हो सकता है?* जो बच्चे घर में बैठकर, कहाँ-कहाँ, किसी कोने में बैठकर, बाप को बड़े प्यार से याद करते हैं, बड़े दिल से पुकारते हैं कि ‘बाबा, मैं तो अभी-अभी आया, अभी-अभी ज्ञान में आया, मुझे अभी-अभी परिचय मिला - और आप अभी चले गए?’ क्या बाप, ऐसे अती स्नेही बच्चों को छोड़कर जाएगा? जाएगा? *जैसे आत्मा शरीर बदलती है ना .. आत्मा शरीर बदलती है, अपने बाप से मिलन मनाने के लिए .. तो क्या बाप अपने बच्चों से मिलने के लिए शरीर नहीं बदल सकता?* डर किस बात का है? बच्चे जानते हैं बाप है, समझते हैं बाप है, ज्ञान भी है - पर किसी कोने में क्या है? डर है! जब बाप से इतना प्यार है कि दुनिया की लोक-लाज नहीं .. बाप से इतना भी प्यार है कि बाप के लिए बच्चे कहीं पर भी हाजिर हो सकते हैं .. और *बाप को कितना प्यार है? कितना प्यार है कि बाप भी अपने बच्चों से मिलन मनाने के लिए .. भल कोई जंगल में बैठकर तपस्या क्यों नहीं कर रहे हैं .. उनसे भी मिलन मनाने के लिए बाप पहुँच जाता है।*

आज की सभा बहुत बड़ी सभा है। क्यों? क्यों बड़ी सभा है? क्योंकि बाप का एक-एक हीरा वैल्युएबुल है, बहुत कीमती है, तो बाप के लिए तो कितनी बड़ी सभा है! एक मधुबन वाली सभा .. बच्चे सोचते हैं, ‘बाबा इतनी बड़ी सभा को छोड़कर हम बच्चों के बीच में क्यों आएगा?’ क्यों आएगा? क्योंकि उतनी बड़ी सभा में कोई-कोई बच्चे नहीं थे। *आप बच्चों में, उतनी बड़ी सभा में, जो-जो नहीं थे, उनसे भी मिलन मनाने आए हैं .. और जो थे, उनका पेपर लेने आए हैं।* जो थे - उनका पेपर कैसे? देखते हैं .. कि बाप से सच्चा प्यार है .. कि बाप कहीं भी किसी कोने में बैठकर अपने सिकिलधे बच्चों को आवाज दे .. और वो आवाज सुनकर बच्चे दौड़े चले आए! *यह .. (मधुबन वाली) सभा में बैठने वालों का भी पेपर है* .. और जो नहीं बैठे, उनको मिलन मनाने बाप पहुँच गए हैं .. जो आने वाले समय में - और भक्ति मार्ग में क्या गायन है? क्या गायन है? ‘मेरा बाबा, मेरे शहर, मेरे गाँव, मेरे घर में पहुँच गया’ .. यही गायन है ना? बाप की दृष्टि आप बच्चों पर पड़ी, मतलब आप बच्चों के घर में बैठ गया। बाप की दृष्टि भूमि पर पड़ी, तो मतलब बाप आपके घर में आ गया। *गायन है ना – ‘मेरा बाबा आ गया, मेरे दिल में आ गया, मेरी गली में आ गया, मेरे शहर में आ गया’ .. ‘मेरा बाबा पूरे भारत में आ गया’।* भल अभी भक्त बच्चे भी बाप के सन्मुख बैठे हैं .. जिस बाप को जन्म-जन्मांतर पुकारते आए .. जिसको ढूँढते आए हैं .. वो बाप आया है। भाग्यशाली हो कि पहुँच गए, फिर साक्षात्कार में दिखाई देंगा – ‘अरे, मैं तो अपने बाप से मिल लिया हूँ, मुझे तो प्राप्ति हो गई है’। कोई पछतावा नहीं रहेंगा, कोई शिकवा नहीं रहेंगा, कोई शिकायत नहीं रहेंगी .. क्योंकि आप बच्चों से तो बाप सन्मुख मिलन मना रहे हैं। *आने वालों पर तो सिर्फ एक सेकंड का दृष्टि पड़ेगा। वो एक सेकंड का दृष्टि ही बच्चों को संतुष्ट कर देंगा।* इसलिए, अपने भाग्य पर खुशी मनाओ। गायन है ना ‘भगवान जब आएगा तो साधारण वेश में आएगा, और उसको कोई में भी कोई, कोटों में भी कोई पहचानेंगा।’ *तो आज वो समय है, आज वो घड़ी है कि एक बाप अपने बच्चों से मिलन मनाने पहुँच गया है। आपका पिता आया है, आत्मा का पिता आया है। इतने समय से भटके हुए थे, बिछड़े हुए थे .. समय तो लगेगा ना। पर इतना भी समय नहीं है कि आप गलत और सही में सोचते रहो, और समय निकल जाए। ठीक है?*

सदा खुशी में नाचते रहो, खुशी में गीत गाते रहो। फिर मिलेंगे ...

फिर मिलेंगे .. सदा खुश रहो, संतुष्ट रहो। बाप मिला है, सबकुछ मिला है। जिनके पास नहीं है, वो कैसे ढूँढ रहे हैं .. पर आप बच्चों को मिला है, तो खुशी होनी चाहिए, संतुष्टि होनी चाहिए कि आज मैं अपने पिता को सन्मुख देख रही हूँ, मिल रही हूँ। और बच्चे कैसे भटक रहे हैं ना .. ढूँढ रहे हैं! पर आप बच्चे भाग्यशाली हो .. अच्छा, फिर मिलेंगे ..
Zorba the Greek
Posts: 41
Joined: 03 May 2019
Affinity to the BKWSU: BK supporter
Please give a short description of your interest in joining this forum.: To engage in fruitful discussions

Bap-Dada's LATEST & FINAL part

Post by Zorba the Greek »

Versions of Shiv Baba
23.07.2021

[ Through Mother Devaki - ‘Bharat Mata’, ‘JagadAmba’ - soul of Om Radhe, ‘Mateshwari’, Saraswati Mama (who had taken one more birth in an affluent family - between 1965 and the present birth) – who first gives Golden Age birth to Shri Krishna, and then takes her own Golden Age birth after 2 to 3 years in a different family - and the sustenance of Shri Krishna takes place through a different (Yashoda) mother and father! ]

"Sweet children .. there is the praise – when God will come, then He will come in an ORDINARY dress (body), and out of a few from multi-millions, only a VERY FEW will ReCognize Him. Today is that time, today is that hour, when One Father has come to celebrate a meeting with His children."

Link: Baapdada Milan - 23.07.2021

OK .. Today, BapDada has come to celebrate a meeting with His extremely Loving .. TRULY Loving children. Today is a special day for the children, it is a fortunate day. Today, the Father has come to celebrate a meeting with His Lovely children. Now, from ALL directions, from EVERY direction, the sound will emerge – ‘My Baba has come’! *Time has changed .. but how can the Father of Madhuban change?* Children who are sitting at home .. in some place or the other, sitting in some corner .. remember the Father with GREAT Love, and invoke Him with a big heart, saying .. ‘Baba, I have just come, I have just come in Knowledge, I have just received your introduction – and you have now already left?’ Will the Father leave such extremely Loving children and go away? Will He go away? *Just as a soul changes the body .. the soul changes the body, in order to celebrate a meeting with his/her Father .. so, can the Father not change the body in order to meet His children?* What is there to FEAR? Children know that He is the Father, they understand that He is the Father, they also have Knowledge – but what is there in some corner? There is FEAR! When there is so much Love for the Father, then they do not bother about public opinion .. when the children have so much Love for the Father, then they can be present ANYWHERE for the Father .. and *how much Love does the Father have? The Father has so much Love, that, in order to meet the children .. even if they are sitting in some jungle doing penance .. the Father reaches EVEN there, to celebrate a meeting with them.*

Today’s gathering is a very large gathering [ although, ACTUALLY, only a small gathering is present in ‘Sakar’ ]. Why? Why is this a large gathering? Because EVERY Diamond (EVERY child) of the Father is VALUABLE, extremely valuable, and so, for the Father this is a very large gathering! For the gathering of Madhuban .. the children think, ‘why would Baba leave such a large gathering (of Madhuban) and come among us children?’ Why would He come? Because some children were not present in such a large gathering (of Madhuban). *Baba has also come to celebrate a meeting with those children among you who were not present in such a large gathering (of Madhuban) .. and has also come to take a (test) paper of those who were present there.* How is this a (test) paper for those who were present there (in the large gathering of Madhuban)? To determine .. if they have TRUE Love for the Father .. and if the Father sits anywhere, in any corner, and calls out to his beloved children .. by hearing that call .. whether the children would come running (to the Father)! *This .. is also a (test) paper for those sitting in the gathering (of Madhuban)* .. and the Father has also come to celebrate a meeting with those who were not present there. .. In the time to come – and on the path of devotion, what is the praise of this? What is the praise? ‘My Baba has come to my city, my village, my house’ .. this is the praise, is it not? When the vision of the Father falls on you children, it means that He is sitting in the house of you children. When the vision of the Father falls on your soil, it means the Father has come to your house. *There is the praise – ‘My Baba has come, He has come within my heart, He has come in my lane, He has come in my city’ .. ‘My Father has come in the whole of Bharat’.* Although devotee souls are also sitting in front of the Father [ some devotee souls are also in front of the Father ].. the Father whom you have been invoking for birth after birth .. whom you have been searching .. that Father has come. Those who have reached here are fortunate – later, you will see in visions – ‘Oh, I have, indeed, met my Father, I have attained’. There will not be any repentance, there will not be any complaint, there will not be any grievance .. because the Father is celebrating a meeting in front of you children.

*Those who come later will receive the vision (‘dristi’) of only one second, and that vision of one second will satisfy the children.* Therefore, celebrate your fortune with Happiness. There is the praise, ‘When God will come, then He will come in an ORDINARY dress (body), and out of a few from multi-millions, only a VERY FEW will ReCognize Him.’ *So, today is that time, today is that hour, when One Father has come to celebrate a meeting with His children. Your Father has come, the Father of souls has come. You had been wandering for so long, you were lost .. and so it would take time. But there is not so much time for you to keep thinking whether this is right or wrong - and the time slips away. OK?*

Always keep dancing in Happiness, keep singing songs in a state of Happiness. We will meet again ...

Always remain Happy, remain content. You have met the Father, so you have achieved EVERYTHING. Those who have not found Him, are still searching .. but He has met you children, so you should have Happiness, you should be content .. that ‘today, I am seeing my Father personally, and meeting Him’. Other children are still wandering .. searching for Him! But you children are fortunate ..

OK, we will meet again ..
destroy old world
Vishnu Party
Posts: 110
Joined: 09 Jul 2007
Affinity to the BKWSU: ex-BK

Bap-Dada's LATEST & FINAL part

Post by destroy old world »

प्रजापिता ब्रह्मा बाबा की वाणी - 23.07.2021

(देवकी माता द्वारा - श्री कृष्ण को जन्म देने वाली - भारत-माता, जगदम्बा)

Versions of PrajaPita Brahma - 23.07.2021

(through Mother Devaki - Bharat-Mata, JagadAmba - who gives birth to Shri Krishna)

https://www.youtube.com/watch?v=JSavnKCGEQM

Versions of PrajaPita Brahma - 23.07.2021
destroy old world
Vishnu Party
Posts: 110
Joined: 09 Jul 2007
Affinity to the BKWSU: ex-BK

Bap-Dada's LATEST & FINAL part

Post by destroy old world »

प्रजापिता ब्रह्मा बाबा की वाणी - 28.07.2021

(देवकी माता द्वारा - श्री कृष्ण को जन्म देने वाली - भारत-माता, जगदम्बा)

Versions of PrajaPita Brahma - 28.07.2021

(through Mother Devaki - Bharat-Mata, JagadAmba - who gives birth to Shri Krishna)

https://www.youtube.com/watch?v=N61Bzm7ttaE

Versions of PrajaPita Brahma - 28.07.2021
destroy old world
Vishnu Party
Posts: 110
Joined: 09 Jul 2007
Affinity to the BKWSU: ex-BK

Bap-Dada's LATEST & FINAL part

Post by destroy old world »

🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ शिवबाबा याद है?

शिवबाबा की वाणी
01.08.2021

[ देवकी माता द्वारा - भारत-माता, जगदम्बा - ओम राधे, मातेश्वरी, सरस्वती मम्मा की आत्मा - (जिनका एक और जन्म अमीर परिवार में हुआ था - १९६५ के बाद, और इस जन्म के पहले) - जो पहले, श्री कृष्ण को सतयुगी जन्म देती है, फिर २-३ साल के बाद अपना सतयुगी जन्म अलग परिवार में लेती है - और श्री कृष्ण की पालना, अलग (रानी यशोदा) माता और पिता द्वारा होता है! ]

"मीठे बच्चे .. मन में अगर प्यार है, बाप के प्रति प्यार है, तो बाप सदाकाल के लिए अनुभूति कराएगा .. और अगर परखने के लिए आए हैं, तो बारी-बारी परखेंगे।"

Link: https://www.youtube.com/watch?v=3Pdzj9oUtMI

अच्छा .. आज बापदादा अपने सिकीलधे बच्चों से मिलन मनाने आए हैं, और बच्चे बाप से मिलन मनाने आए हैं। एक बारी सुना कि ‘मेरा बाप आया है’, तो बच्चे दौड़े दौड़े चले आए .. यही तो प्यार है ना! *प्यार किसे कहते हैं? .. बस एक आवाज आया कि ‘मेरा बाबा आए हैं’, और बच्चे दौड़े चले आए।* प्यार का सब्जेक्ट में तो सभी पास हैं। *मेजोरिटी ब्राह्मण परिवार प्यार के सब्जेक्ट में पास हैं।* भल बच्चे आए हैं .. मिलन मनाने आए हैं .. कोई प्यार में .. पर कोई-कोई पहचानने के लिए आए हैं – ‘एक बारी जाके तो चेक कर लेवे कि मेरा मधुबन वाला बाबा है, या कोई और बाबा आया है?’ बाप क्या कहेंगा - जब पहली बारी मधुबन में बच्चों ने मिलन मनाया, तब पूरी पहचान किसको थी! सभी को थी? सभी को नहीं थी। बस आए हैं, मधुबन में आए हैं .. ज्ञान भी नहीं था, समझ भी नहीं थी .. सब जा रहें हैं, तो हमें भी चलना चाहिए .. पर उसमें भी कोई-कोई बच्चे बहुत प्यार में आए हैं।

आज कल्याणकारी बाप आया है। *मन में अगर प्यार है .. बाप के प्रति प्यार है, तो बाप सदाकाल के लिए अनुभूति कराएगा .. और अगर परखने के लिए आए हैं, तो बारी-बारी परखेंगे।* मेजॉरिटी बच्चे क्या सोचते हैं? बाप, उनको ज्ञानी तू आत्मा कहे - क्या प्यार वाली आत्मा कहे? बच्चे सोचते हैं – ‘जब मैं बाप से मिला, अगर बाप ने पहले वाला वरदान रिपीट किया, तो मैं सोचूँगा कि यह वो ही बाबा है, यह मेरा बाबा है। अगर बाप को वो बात याद होंगी, तो मैं सोचूँगा यह मेरा ही मधुबन वाला बाबा है।’ अच्छा बाप कहेंगा चलो याद है .. क्या गॅरेंटी है कि आप निश्चयबुद्धि बनेंगे? *सबसे पहले, सभी अपने मन की सवाल-जवाब की पुस्तक को बंद करके बैठेंगे, और बस प्यार से देखेंगे, तो बाप मधुबन वाला ही है! अपने मन की जो हलचल है उसे समाप्त करें।* अंतिम समय है .. बाप की पहचान नहीं है, तो भल बाप को बैठकर याद करें क्योंकि बाप का अंतिम समय का पार्ट तेजी से चलेंगा। *जो अपने ही सवाल-जवाब में उलझे रहेंगे, वो पीछे रह जाएँगे।*

ज्ञानी तू आत्मा की निशानी क्या है? ज्ञानी तू आत्मा की निशानी है, सबसे पहले उसको एक ज्ञान जरूर होंगा – ‘मैं आत्मा हूँ और मेरा पिता परमात्मा है .. सभी का पिता है .. जो ड्रामा के आदि-मध्य-अंत का ज्ञान मुझे नहीं है, पर हर एक आत्मा के 84 जन्मों का ज्ञान मेरे बाप को है।’ *ज्ञानी तू आत्मा शरीर में नहीं फंसती कि बाप ऐसे क्यों आएंगा?* कहाँ-कहाँ देखने वाले बच्चे क्या कहते हैं – ‘बाबा किसी छोटी बच्ची में क्यों आएंगा?’ आपकी दृष्टि ने छोटी देखा .. पर बाप की दृष्टि में कौन है, वो किसने देखा?

आज बाप अपने ऐसे बच्चों से भी मिलन मनाने आए हैं जो मधुबन में एक बार भी नहीं मिले। क्या कहते – ‘बाबा हम तो अभी-अभी आए हैं और आप चले भी गए?’ तो बाप क्या कहेंगा - जो बाप ने वायदा किया है .. कौन सा वायदा? संगमयुग में साथ रहेंगे, और परमधाम में साथ चलेंगे। याद है ना? बाप अपने वायदे का पक्का है। जिनको अभी-अभी परिचय मिला है .. या फिर जो बहुत पहले से बाप को जानते हैं, पर अभी तक मधुबन में नहीं पहुँच पाए .. तो बाप क्या कहेंगा – *हर बच्चे का अधिकार है बाप से मिलन मनाने का।* तो खुशी है ना? और इस यात्रा में एक विशेष - आज बाप उन बच्चों से भी मिलन मनाने आए हैं .. कहते हैं ना जब राम ने अयोध्या छोड़ा था, तो साथ में कौन-कौन बाहर आए थे? कौन आए थे? कौन? नाम बतावे .. [ लक्ष्मण और सीता ] *सीता कौन? जो सच-सच बाप से सच्चा प्यार करती है वो सीतायें हैं। लक्ष्मण कौन है .. जो अपने लक्ष्य को बुद्धि में रख के चलता है वो लक्ष्मण .. और लक्ष्मण का लक्ष्य कौन - ‘राम’।* तो इस सभा में सीता और लक्ष्मण कौन-कौन हैं? वाह! लक्ष्मण .. जो सामने एक लक्ष्य – ‘मुझे अपने बाप के साथ चलना है’.. तो यह यात्रा .. जब निकलते हैं ना बहुत कुछ त्याग होता है। *सबसे पहले वस्त्र का त्याग अर्थात बाप ने शरीर रूपी वस्त्र त्यागा। तो जिनको आत्मा का पाठ पक्का है उनको बाप को पहचानने में जरा भी देरी नहीं लगेंगी।* जो देह-अभिमान में है, बस वही चिंतन रहेंगा कि ‘बाबा ने जो पहले मुझे वरदान दिया था अगर वो याद होंगा तो ही निश्चय करूँगा।’ तो बाप क्या कहेंगे? *भल निश्चय करें या नहीं करें .. वर्तमान समय बाप किसी को निश्चय कराने नहीं आया है कि निश्चय करो .. कि मैं आपका पिता हूँ। वर्तमान समय जो बच्चे कहते हैं, ‘मैं बहुत पुराना ज्ञानी हूँ, मुझे बहुत ज्ञान है’ .. मेजॉरिटी का पेपर लेने बाप आया है। अगर सच में ज्ञानी है तो आत्मा के पेपर में पास होके दिखावे। अपने मन के संकल्पों को शांत करें।*

अगर बच्चे कहते हैं कि ‘हम भीड़ में निश्चय करेंगे .. जब हजारों की भीड़ होंगी, लाखों की भीड़ होंगी तब निश्चय करेंगे कि हाँ सच में बाप है।’ *तो बाप उन बच्चों को कहेंगा थोड़ा इंतजार करो .. वो दृश्य भी कल का ही है।* जैसे मधुबन में शुरू-शुरू में बहुत कम मिलते थे ना, थोड़े मिलते थे। उस समय भी क्या कहते – ‘अगर भगवान आया है तो इतने थोड़े क्यों हैं?’ जिनका संकल्प चला, वो फेल हो गए। और वही संकल्प यहाँ – ‘अगर भगवान आया है, तो इतने थोड़े क्यों?’ *बाप कहेंगा .. इसीलिए कि आप बच्चों का भाग्य बनाने आया है, आप बच्चों से मिलन मनाने आया है, ताकि कल कोई बच्चा यह ना कहे ‘बाबा मेरेको इतनी भीड़ में क्यों मिलाया?’* क्या सोचते थे – ‘बाबा काश मैं भी थोड़ा सन्मुख मिलता, मैं सबसे पीछे बैठके मिलता हूँ।’ बाबा कहेंगा .. ठीक है सन्मुख मिलते हैं। तो बच्चे क्या कहते हैं - ‘इतना पास से बाबा कैसे मिल सकता है?’

वर्तमान समय .. समय बहुत समीप आ गया है। *‘आदि सो अंत’ का समय चल रहा है।* सभी का संकल्प था ना ब्रह्मा बाप की पालना में हम नहीं पले। *तो बाप क्या कहेंगा - यह अंतिम समय है ब्रह्मा बाप की पालना .. ‘आदि सो अंत’।* और जो कहते हैं, और सोचते हैं मुझे ब्रह्मा बाप से प्यार नहीं, तो उनको यह कहेंगे कि आपको फिर शिव बाप से भी प्यार नहीं। सतयुग का महाराजा, जिनकी राजधानी में हमें चलना है उनसे प्यार नहीं होंगा, तो फिर परमधाम में आत्मा बिंदी बनके चिपके रहना, फिर उन बच्चों को मुक्ति का वर्सा मिलेंगा, जीवन-मुक्ति का नहीं मिलेंगा। *बिना ब्रह्मा बाप के आप कभी ज्ञान में नहीं आते, आपको बाप की पहचान नहीं मिलती, ऐसे ही भक्ति मार्ग के फेरे लगाते रहते।*

अच्छा, ऐसे ब्रह्मा बाप समान बनने वाले बच्चों को .. फरिश्ता स्टेज नजदीक है। ऐसे हाथ में हाथ देकर चलने वाले बच्चों को, ऐसे भाग्यशाली बच्चों को, कल्याणकारी बापदादा का मीठा-मीठा यादप्यार।

फिर मिलेंगे ...
Zorba the Greek
Posts: 41
Joined: 03 May 2019
Affinity to the BKWSU: BK supporter
Please give a short description of your interest in joining this forum.: To engage in fruitful discussions

Bap-Dada's LATEST & FINAL part

Post by Zorba the Greek »

Versions of Shiv Baba
01.08.2021

[ Through Mother Devaki - ‘Bharat Mata’, ‘Jagadamba’ - soul of Om Radhe, ‘Mateshwari’, Saraswati Mama (who had taken one more birth in an affluent family, between 1965 and the present birth) – who first gives Golden Age birth to Shri Krishna, and then takes her own Golden Age birth after 2 to 3 years in a different family - and the sustenance of Shri Krishna takes place through a different (Queen Yashoda) mother and father! ]

"Sweet children .. if there is (TRUE) Love in your heart .. if there is Love for the Father .. then the Father will enable you to have a CONSTANT EXPERIENCE .. and if you have just come to ReCognize (the Father), then you will just keep endeavouring to ReCognize Him, again and again (WITHOUT having ANY EXPERIENCE)!"

Link: Baapdada Milan - 01.08.2021

OK .. today, BapDada has come to celebrate a Meeting with His ‘long lost and now found’ children, and the children have come to celebrate a Meeting with the Father. Having heard, just once, that ‘my Father has come’, the children came running .. this is (TRUE) Love, is it not! *What is called (TRUE) Love? .. Just a sound was heard, ‘my Baba has come’, and the children came running.* Everyone has PASSED in the subject of Love. *The majority of the Brahmin Family has PASSED in the subject of Love.*
Although the children have come .. they have come to celebrate a Meeting .. some have come out of Love .. but some have come to ReCognize (the Father) – ‘let me, at least, go once and check whether He is my Baba from Madhuban, or whether He is some other Baba?’ What would the Father say - when the children celebrated a Meeting (with the Father) for the VERY FIRST time, in Madhuban, then who had the COMPLETE ReCognition (with a COMPLETE soul-conscious vision)! Did everyone have (SUCH COMPLETE ReCognition)? Everyone DID NOT have. They just came, they came to Madhuban .. they DID NOT even have (COMPLETE) Knowledge, NOR did they have (PROPER) understanding .. ‘everyone is going, so we should also go’ .. and among you, too, some children have come just out of DEEP Love (for God).

Today the Benevolent Father has come. *If there is (TRUE) Love in your heart .. if there is Love for the Father .. then the Father will enable you to have a CONSTANT EXPERIENCE .. and if you have just come to ReCognize (the Father), then you will just keep endeavouring to ReCognize Him, again and again (WITHOUT having ANY EXPERIENCE)!* What do the majority of the children think? Would the Father consider them to be a Knowledge-full soul, or a Loving soul? (Some) Children think – ‘when I meet the Father, if the Father repeats the earlier Blessing, then I will consider that this is the SAME Father, that this is my Father (of Madhuban); if the Father remembers those Blessings, then I would consider that this is my own Baba from Madhuban.’
OK .. even if the Father says that He does remember .. what is the guarantee that you will have faith? *First of all, everyone should sit with their ‘question and answer book’ of their mind CLOSED, and just look (at the Father) with Love .. then (you will REAL-EYEs that) this is, INDEED, the (SAME) Father from Madhuban! Put an end to the turmoil within your mind.* This is the FINAL moment .. if you cannot ReCognize the Father (through His third Chariot), then you may continue to sit and Remember the Father (as you do) .. because the Father's part of the FINAL moment will progress RAPIDLY. *Those who remain ENTANGLED in their OWN questions and answers will be LEFT BEHIND!*

What is the sign of a Knowledge-full soul? The sign of a Knowledge-full soul is that, first of all, he/she would DEFINITELY have the Knowledge that – ‘I am a soul, and my Father is the Supreme Soul .. He is the Father of ALL .. I do not have the Knowledge of the beginning, the middle, and the end of the Drama, but my Father has the Knowledge of 84 births of EACH and EVERY soul.’ *A Knowledge-full soul does not get confused with the body .. as to why the Father would come in this way (in this body)?* What do children, who watch from somewhere or the other, say – ‘why would Baba come in a youthful child?’ You see her as youthful, in your (body-conscious) vision .. but who has seen *WHO SHE IS* in the (soul-conscious) Vision of the Father?

Today, the Father has also come to celebrate a Meeting with those of His children who did not meet (Baba) EVEN ONCE, in Madhuban. What do they say – ‘Baba, we have just come (into Knowledge), and you have already gone?’ So, what will the Father say – the PROMISE which the Father made .. which PROMISE .. we will stay TOGETHER in the Confluence Age, and we will go TOGETHER to the Supreme Abode .. do you remember that? The Father is (ALWAYS) FIRM on His PROMISE. To those who have just got an introduction (of the Father) .. or those who have known the Father since a long time, but were not able to reach Madhuban until now .. what would the Father say - *EVERY child has the right to celebrate a Meeting with the Father.*
So, you have this Happiness, do you not? And a speciality in this journey - today the Father has also come to meet those children .. it is said, is it not - that when RAMA left Ayodhya, then who all came out with him?
Who came out? Who? Say the names .. [ Lakshman and Sita ] *Who is Sita? Those who TRUTHFULLY and TRULY Love the Father are Sitas. Who is Lakshman .. one who conducts oneself, by being AWARE of one’s aim and objective in the mind, is Lakshman .. and who is the GOAL of Lakshman – ‘RAMA’.* So, who are Sita and Lakshman, in this gathering? Wow! Lakshman .. who has ONE goal in front – ‘I have to go along with my Father’.. so, this journey .. when we come out (on this journey) a great deal is sacrificed.
*First of all, renouncing the clothes means that the Father renounced the body. So, there would not be the SLIGHTEST DELAY in ReCognizing the Father for ALL those who are FIRM in the lesson of the soul.* Those who are body-conscious will only KEEP thinking, ‘if Baba remembers the Blessing which He first gave me, only then will I have faith.’ So, what would the Father say? *Whether you have faith, or not .. at the present time, the Father has not come to enable anyone to have faith .. that you should have faith that I am your Father. At the present time, those children who say, ‘I am in this Knowledge for a long period, I have a great deal of Knowledge’ .. the Father has come to take a (test) paper of the majority of them. If you are TRULY Knowledge-full, then prove yourself by passing in the (test) paper of the soul .. PACIFY the thoughts within your mind.*

If the children say that ‘we will have faith when there is a crowd .. when there will be a crowd of thousands, or hundreds of thousands, only then we will have faith that this is TRULY the Father.’ *So, the Father would tell such children - wait a little longer .. that is just tomorrow's scene.* Just as in Madhuban, a very few (children) used to meet in the very beginning, a few used to meet .. EVEN at that time, they used to say – ‘if God has come, then why are there so few?’ Those who had such thoughts had failed. And the same thoughts are NOW here – ‘if God has come, then why are there so few?’
*The Father would say .. because the Father has come to create the fortune of you children, He has come to celebrate a Meeting with you children - so that tomorrow, no child would say, ‘why did Baba meet me in such a crowd?’* What did you think – ‘Baba, I wish I could also meet you a little closer, I am meeting by sitting right at the back.’ Baba would say .. OK, we will meet PERSONALLY. So, what do the children say - ‘HOW CAN Baba meet so close (personally)?’

At the present time .. the time has come VERY CLOSE. *The time of ‘as it was in the beginning, so will it be at the end’ (‘aadi so anth’) is NOW going on.* Everyone had the thought, is it not - that ‘we were not sustained by the (PERSONAL) sustenance of Father Brahma.’ *So, what would the Father say – this FINAL period is of receiving the (PERSONAL) sustenance of Father Brahma (through Mother Devaki – SAME soul of Saraswati Mama) .. ‘as it was in the beginning, so will it be at the end’ (‘aadi so anth’).* And those who say and think that, ‘I do not have Love for Father Brahma’ - then they would be told that they do not have Love for Father Shiva EITHER! If you do not have Love for the Emperor of the Golden Age, in whose Kingdom you have to go, then you may remain glued to the Supreme Abode as a soul, as a Point - and then such children will (ONLY) receive the inheritance of Liberation (‘mukti’), and NOT Liberation-in-Life (‘jivan-mukti’). *Without Father Brahma, you would NEVER have come into Knowledge, and you would NOT have had the ReCognition of the Father - and you would just be wandering on the ‘path of Devotion’.*

OK .. to such children who become equal to Father Brahma .. whose Angelic stage is near .. to such children who walk with their hand in His Hand, to such FORTUNATE children, the Benevolent Father's SWEETEST Love and Remembrance.

OK, we will meet again ..
destroy old world
Vishnu Party
Posts: 110
Joined: 09 Jul 2007
Affinity to the BKWSU: ex-BK

Bap-Dada's LATEST & FINAL part

Post by destroy old world »

🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ शिवबाबा याद है?

शिवबाबा की वाणी
29.01.2020

[ देवकी माता द्वारा - भारत-माता, जगदम्बा - ओम राधे, मातेश्वरी, सरस्वती मम्मा की आत्मा - (जिनका एक और जन्म अमीर परिवार में हुआ था - १९६५ के बाद, और इस जन्म के पहले) - जो पहले, श्री कृष्ण को सतयुगी जन्म देती है, फिर २-३ साल के बाद अपना सतयुगी जन्म अलग परिवार में लेती है - और श्री कृष्ण की पालना, अलग (रानी यशोदा) माता और पिता द्वारा होता है! ]

"बाप की मशीनरी में कौन पिसे जाएंगे?"

Link: https://www.youtube.com/watch?v=qCLAHP_iZfo

*समय की घड़ी .. तेजी से चल रही है। कोई माने ना माने! वो बच्चों का खुद का मन, विवेक!* पर आप बच्चों का कर्तव्य है .. जल्दी पूरा करें .. अब समय नहीं है। *हर एक बच्चे को बाप का यह मैसेज पहुंचा देना।* अब समय नहीं है! यह सत्य है .. और यह सत्य होने वाला है। अब .. कोई बच्चे कहेंगे, ‘हम नहीं मानते’। तो, कहना .. ‘ठीक है, हो जाने के बाद मान जाना’। क्या कहेंगे? ‘होने के बाद मान जाना .. जब हो जाएंगा तब स्वीकार करना .. तब भी, आपका मन करे, तो स्वीकार करना .. नहीं .. जब शरीर छोड़कर ऊपर जाएंगे, तब स्वीकार करना!’ कोई, कुछ भी कहे .. अब समय नजदीक है। *यह मैसेज सभी बच्चों तक पहुंचाना है।* जो देह-अभिमान की मिट्ठी में बैठे हैं .. देह अभिमान की मिट्ठी लगी हुई है .. उनको मिट्ठी खिंचेगी .. लौकिक दुनिया के साधन खींचेंगे .. लौकिक दुनिया का विनाशी धन खींचेगा। जैसे .. जैसे कौनसी मक्खी होती है ना, उसको जब मीठे में .. जब भी मीठा शुरु करती है खाना .. तो कहेंगे, ‘चलो तूफान आया है’। वो क्या कहेंगी – ‘नहीं, अभी इसमें रस आ राहा है, थोड़ा और ले लूं।’ *तो क्या होंगा? उसी में ही स्वाहा! ऐसी मक्खी नहीं बनना है।*
समझा! अटेंशन!

*यह मैसेज सभी बच्चों को पहुंचा देवें .. समय कम है .. पुरुषार्थ इतना हुआ नहीं। अब, एक-एक बच्चे के लिए बैठेंगे नहीं। इंतजार नहीं करेंगे कि रुको .. अभी रुको! अब तो समय की घंटी बज जाएंगी। फिर जो आपके सामने बाप दिखाई देता है ना, फिर बाप नहीं होंगा। फिर चारों तरफ .. प्रकृति का कहर (havoc) होंगा .. और उस समय आप बच्चों का पुरुषार्थ बाप की याद दिलाएंगा।*
आप बच्चों का, जो सेवा आप बच्चों ने किया है, वो साथ देंगा। और जो दुनिया में है, वो .. वो कैसे पिसेंगे? कैसे .. कौनसी मशीन में जाएंगे?
समझा! समय कम है .. गफलत कम कर देवें .. एक-एक के ऊपर बाप की दृष्टि है, चाहे कहाँ भी बैठा है। उस दृष्टि से बच नहीं पाएंगे। भल दुनिया की दृष्टि से बच रहे हैं। अब तक बच रहे हैं नहीं .. बचाया गया है। *पर जब बाप की दृष्टि में वतन में टीवी चलेंगा, वो टीवी प्रत्यक्ष सबको दिखाई देंगा। अभी भी समय है .. और वार्निंग (warning) है .. समझ जावे। जहां भी बैठे हैं .. बाप को बहुत प्यार है, इसलिए इशारा दे रहे हैं। समझा? सबको मैसेज पहुंचावे।* सब सुन लेवे .. दोनों कान खोल कर सुन लेवे। अब नहीं तो .. कब नहीं। अब बाप है, फिर बाप नहीं होंगा। कितना भी रोयेंगे, माफी मांगेंगे, कुछ भी करेंगे .. फिर बाप नहीं!
सब का बाप होंगा धर्मराज .. और ब्राह्मणों के लिए धर्मराज होंगा! अच्छा .. अभी .. सभी .. चाहे जहां भी हैं .. देश विदेश में .. सभी को बापदादा का याद प्यार। ऐसे तीव्र पुरुषार्थी बच्चों को .. विशेष संदेशवाहक बच्चों को .. मैसेंजर-पैगंबर बच्चों को .. विशेष याद प्यार। अपना मैसेज जल्दी करें।

अच्छा .. अपना कर्तव्य पूरा करो और पहुंच जाओ, बाप के पास। फिर, बाप अपना कर्तव्य पूरा करें। *और बाप की मशीनरी एक बार शुरू हो गई, तो फिर कार्य खत्म करके पूरा होकर ही रुकेंगे .. बीच में किसी की सुनवाई नहीं होंगी कि थोड़ी देर मशीनरी को रोकें। दुनिया की मशीनरी में तो कुछ और पिसता है। बाप की मशीनरी में तो .. सब सृष्टि के मनुष्य पिसे जाएंगे। बाप, बाप नहीं होंगा .. बाप होंगा महाकाल!* सब को संदेश देना .. सभी एक-एक बच्चा अपनी जिम्मेवारी समझे। किसकी जिम्मेवारी? अपनी जिम्मेवारी। अगर एक दो कि शकल देखते रहेंगे, तो बाप किसी और की शकल को बना देंगा। फिर कहना नहीं कि बाबा आपने मेरा स्थान किसको क्यों दिया? क्योंकि बाप के सामने तो अनेकों शकलें हैं। ठीक है ना! सब को टोली मिला?

अच्छा .. फिर मिलेंगे!
Zorba the Greek
Posts: 41
Joined: 03 May 2019
Affinity to the BKWSU: BK supporter
Please give a short description of your interest in joining this forum.: To engage in fruitful discussions

Bap-Dada's LATEST & FINAL part

Post by Zorba the Greek »

Versions of Shiv Baba
29.01.2020

[ Through Mother Devaki - ‘Bharat Mata’, ‘Jagadamba’ - soul of Om Radhe, ‘Mateshwari’, Saraswati Mama (who had taken one more birth in an affluent family, between 1965 and the present birth) – who first gives Golden Age birth to Shri Krishna, and then takes her own Golden Age birth after 2 to 3 years in a different family - and the sustenance of Shri Krishna takes place through a different (Queen Yashoda) mother and father! ]

"Who all will be CRUSHED in the Father’s Machinery?"

Link: Baapdada Milan - 01.08.2021

*The clock of Time .. is moving RAPIDLY. One may accept, or may NOT accept! That is up to the children’s OWN mind and conscience!* But it is the duty of you children .. to accomplish quickly .. now, there is not much time left. *Pass on this message of the Father to EVERY child (of Baba).* Now, there is not much time left! This is the Truth .. and this Truth will UNFOLD. Now .. SOME children would say, ‘we DO NOT accept this’. Then, you may tell them .. ‘OK, you may accept AFTER it occurs’. What would you say? ‘You may accept AFTER it takes place .. you can accept WHEN it takes place .. then too, you may accept, IF you like .. no .. you may accept AFTER you leave your body and go up (to the Soul World)!’ Whatever one may say .. the time is now CLOSE. *This message is to be passed on to ALL the children.*

Those who are sitting in the soil of body-consciousness .. who are influenced by the soil of body-consciousness .. the soil (of body-consciousness) will attract them .. the facilities of the corporeal world will attract them .. the perishable wealth of the corporeal world will attract them. Just like .. just like some fly .. when that fly starts eating something sweet .. and it is told, ‘come on, a storm is approaching’. What would the fly say – ‘no, I STILL have liking for this, let me take SOME MORE.’ *Then what would happen? It would PERISH in that, ITSELF! DO NOT become like such a fly.*
Do you understand! ATTENTION!

*Pass on this message to ALL the children .. there is not much time .. adequate efforts have STILL not been made. Now, the Father will NOT sit and wait for EACH and EVERY child. He will NOT wait .. if you say ‘wait, wait a little time more!’ Now, the bell of Time will sound. Then, the Father, whom you now see in front of you, that Father will NOT be there. Then, ALL AROUND .. nature will wreak HAVOC .. and at that time the efforts of you children will remind you of the Father.*
The Service which you children have performed will provide you support (at that time). And those who are in the world .. how would they get crushed? How .. in which machine would they go?
Did you understand! There is not much time .. make no mistakes .. the Father’s Vision is over EACH and EVERY one of you, WHEREVER you may be sitting. You cannot avoid His Vision. You may be avoiding the vision of the world. It is not that you have been avoiding till now .. you have been protected. *But when the TV is turned on in the Subtle Region through the Vision of the Father, then everyone will see everything CLEARLY in that TV. There is STILL some time remaining .. so understand this to be a WARNING! Wherever you may be sitting .. the Father has GREAT Love (for you), which is why He is cautioning you. Do you understand? Pass on this message to EVERYONE.* Let EVERYONE hear this .. let them hear with BOTH their ears OPEN. If not now .. then NEVER. Now the Father is STILL there, then the Father will NOT be there. No matter how much you may weep, how much forgiveness you may ask, whatever you may do .. then there will be NO Father!
Dharamraj will be the Father of all .. *and Dharamraj will be FOR the Brahmins!* OK .. now .. wherever you may be .. whether in this land or abroad .. BapDada’s Love and Remembrance to EVERYONE.
To such children who make FAST efforts .. specially to the children who are messengers .. to such messenger children .. special Love and Remembrance. Give this message (to EVERYONE) QUICKLY.

OK .. complete your assignment and come here, to (meet) the Father. Then, the Father will accomplish His task. *And once the Machinery of the Father starts, then it will stop ONLY AFTER the task is fully accomplished .. NO ONE will be heard, in between .. to stop the machinery for a while. Some other things are crushed in the machinery of this world. In the Machinery of the Father .. ALL the human beings of the world will be CRUSHED. The Father, will NOT be the Father (ANYMORE) .. the Father will be ‘Mahakal’ (the Great Death)!* Give this message to EVERYONE .. EACH and EVERY child should consider this to be one’s OWN responsibility. Whose responsibility? One’s OWN responsibility. If you keep looking at each others faces, then the Father will appoint someone else. Then you should not complain, ‘Baba, why did you give my place to another?’ Because there are MANY faces (children) in front of the Father. Is that OK! Did everyone get Toli?

OK .. we will meet again!
destroy old world
Vishnu Party
Posts: 110
Joined: 09 Jul 2007
Affinity to the BKWSU: ex-BK

Bap-Dada's LATEST & FINAL part

Post by destroy old world »

देवकी मय्या (सरस्वती मम्मा अथवा ओम राधे की आत्मा) के तीसरे रथ के माध्यम द्वारा, प्रजापिता ब्रह्मा (ब्रह्मा बाबा अथवा दादा लेखराज की आत्मा) और निराकार भगवान शिव पिता के, ऑडियो और वीडियो नीचे दिए गए लिंक में देखे जा सकते हैं -

Audios and videos of PrajaPita Brahma (soul of Brahma Baba or Dada Lekhraj) and Incorporeal God Father Shiva, through the third Chariot of Mother Devaki (soul of Saraswati Mama or Om Radhe) may be viewed in the link below –

https://www.youtube.com/channel/UCH-ZZG ... w/featured
destroy old world
Vishnu Party
Posts: 110
Joined: 09 Jul 2007
Affinity to the BKWSU: ex-BK

Bap-Dada's LATEST & FINAL part

Post by destroy old world »

🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️
शिवबाबा याद है?

शिवबाबा की वाणी
28.08.2021

[ देवकी माता द्वारा - भारत-माता, जगदम्बा - ओम राधे, मातेश्वरी, सरस्वती मम्मा की आत्मा - (जिनका एक और जन्म अमीर परिवार में हुआ था - १९६५ के बाद, और इस जन्म के पहले) - जो पहले, श्री कृष्ण को सतयुगी जन्म देती है, फिर २-३ साल के बाद अपना सतयुगी जन्म अलग परिवार में लेती है - और श्री कृष्ण की पालना, अलग (रानी यशोदा) माता और पिता द्वारा होता है! ]

"मीठे बच्चे... खिवैया भी एक है, और नैया भी एक ही है। तो नैया के पीछे लटकने वाले नहीं बनना हैं, एक दूसरे की पूँछ पकड़ने वाले भी नहीं बनना, नैया में सबसे आगे बैठने वाले खिवैया के साथी बनना है।"

Link: https://www.youtube.com/watch?v=F35FS3OiSHg

अच्छा .. आज दिलाराम बाप दिलवाले बच्चों से मिलन मनाने आए हैं। बाप, आज बड़ी दिलवाले बच्चों से मिलन मनाने आए हैं। सभी बच्चों को प्यार है ना? प्यार की डोर में बाप ने सभी को खींच लिया। बाप के सन्मुख अती स्नेही, प्यार में लवलीन बच्चे .. बाप के सन्मुख बैठे हैं। *बच्चों को संदेश पहुंचा कि बाप आए हैं, तो बच्चे प्यार की डोर में खींचकर बाप के समीप पहुँच गए।* कहाँ-कहाँ कोई बच्चे मिलन मनाने आए हैं .. कोई देखने आए हैं कि कौनसा बाबा आया है .. कई प्रेम में आए हैं। *पर जैसे भी आए, जो भी आए .. भाग्य बन गया। यहाँ बैठने वाला एक-एक बच्चा पदमापदम भाग्यशाली है।* कई बच्चे कहते हैं ‘हम जाएंगे, बाप से मिलन मनाके आएंगे, और फिर आपको बताएंगे कि बाप आया है या कोई और आया है’ .. ऐसे बच्चे भी बाप के सन्मुख बैठे हैं। पर आजका जो दिन है, जिनको बाप की पहचान है, जो भल बाप से कभी भी नहीं मिले .. पर प्यार है .. उन बच्चों को बाप की खुशबू अभी ही आ जाएँगी।

आज बाप सभी बच्चों से मिलन मनाने तो आए ही हैं, पर पूछने भी आए हैं, कि बच्चों अचानक के पेपर में पास हो जाएंगे? क्या इतना पुरुषार्थ है? .. क्या इतना प्यार है? जब बाप के बनते हैं, तो बाप से वायदा करते हैं, ‘बाबा, जो बिठाओ, जहाँ बिठाओ, जो खिलाओ, हम तैयार हैं।’ पर आप सभी से पूछना चाहते हैं क्या सभी बच्चे एवर रेडी हैं? पूछते हैं – ‘बाबा, विनाश कब होगा?’ बच्चों का संकल्प चलता है। बाबा, बच्चों से आज पूछते हैं - क्या पुराने स्वभाव, संस्कारों का विनाश किया है? किया है? किसने-किसने किया है? एक हाथ की ताली बजावे, जिनके पुराने स्वभाव, संस्कार पूरी तरह से खत्म हो गए हैं .. जो पुराने स्वभाव, संस्कार पुरुषार्थ में बाधा नहीं डालते हैं। है कोई? इस सभा में गिनके 20 बच्चे भी होंगे ना, तब भी बाप तैयारी करना शुरू कर देंगे। पर 20 तो छोड़े .. 2 बच्चे भी ऐसे नहीं है, जिनके पूरी तरह से पुराने स्वभाव, संस्कारों का विनाश हो गया हो। बाप का बनकर .. और पुराने संस्कार ज्यादा भारी पड़ जाते हैं। थोड़ा भी दुख आया, तो अवस्था हिल जाती है। परिवर्तन करें। करेंगे? करेंगे? कौन-कौन करेंगा? बाप को टाइम देंगे? सबसे पहला स्वभाव संस्कार है ‘मेरा’ .. मेरेपन को खत्म करके, सब कुछ किसका? किसका - बाबा का! है? कई बच्चे गलती करते हैं .. अपना रूप भी दिखाते हैं, और बाद में फिर पछताते भी हैं। कई-कई बच्चे आते हैं, मिलन मनाते हैं, जाके क्या कहते हैं - डिसर्विस भी करते हैं .. और फिर कभी आ करके वापिस बाप से फिर मिलन मनाते हैं। *बाबा क्या कहते हैं – बच्चे, भल कुछ भी समझ में नहीं आवे पर मुख से ऐसे बोल नहीं निकाले जो बाद में पछताना पड़े, और बाप से दृष्टि लेते हुए भी गर्दन नींची करके दृष्टि लें।* अपने स्वभाव को, संस्कारों का विनाश करें, बाप की तैयारी तो अच्छे से है, पर बाप किसके लिए रुका है? बच्चों के लिए रुका है ना। बच्चे क्या कहते हैं – ‘बाबा, थोड़ा टाइम और दो, थोड़ा समय और दो’ .. और फिर एक समय ऐसा आएँगा .. बाबा क्या कहेंगा – ‘अब बाप के पास समय नहीं है’। तो सभी तैयार हैं? हैं? मेरापन निकालकर सब कुछ अर्पण करें। सब कुछ किसका? दे दिया? पक्का, जाते-जाते वापिस तो नहीं लेके जाएंगे? है सब कुछ बाप का .. है ना? दिल से ना? *क्योंकि बाप विश्व की बादशाही हर एक बच्चे को दिल से देता है। कोई भी अलाए मिक्स नहीं होती।* पर जब बच्चों की बारी आती है तो बच्चे क्या करते हैं – ‘बाबा, आधा आपका, और आधा हमारा; बाबा, यह संस्कार पुराना है, अभी रहने दो ना, थोड़े टाइम के बाद दे देंगे।’ बाबा क्या कहेंगा कि बादशाही भी थोड़े टाइम के बाद मिल जाएँगी। ऐसा! *सतयुग में सबको आना है ना, तो चेकिंग करें - क्या मैंने आत्मा का पाठ पक्का किया है। ‘आदि सो अंत’ पेपर में एक ही जवाब देना है!*

जब छोटा बच्चा आता है दुनिया में, तो उसको भान नहीं होता कि उसका शरीर है .. वो देही अभिमानी होता है। और जब बच्चा बड़ा होके बूढ़ा हो जाता है, तो अंतिम का पाठ भी क्या होता है? क्या? अभी आत्मा को शरीर छोड़के जाना है। बाप से प्यार सभी को है, एक आवाज आएँगा कि बाबा वहाँ आए हैं .. तो ऐसे प्यारे-प्यारे बच्चे मिलन मनाने के लिए कहीं से भी आ जाएँगे। प्यार में फुल पास हैं, चेकिंग में भी फुल पास हैं। उसके अलावा? उसके अलावा? हर बच्चे को बाप अनुभव कराते हैं। *ऐसा नहीं है कि बाप ने मधुबन छोड़ा, तो बच्चों को अनुभव कराना बंद कर दिया। घर बैठे भी बाप हर एक बच्चे को अनुभव कराते हैं, पुरुषार्थ कराते हैं, मेहनत कराते हैं।* पर बच्चे अलबेले किस में होते हैं? ‘अब तो बाप मधुबन में आ ही नहीं रहा, अब पुरुषार्थ करने का क्या फायदा - अब तो जो अपनी जीवन बची है ना उसको दुनिया के हिसाब से जियेंगे।’ कितने बच्चे पुरानी दुनिया में चले गए। सिर्फ एक बात .. सिर्फ, कि बाबा अब नहीं आ रहें हैं। कितने बच्चे ऐसे हैं जो जाने की तैयारी कर रहे हैं। कारण - कि बाप मधुबन में नहीं आ रहे हैं। क्या यह सच्चा प्यार है? है? लेकिन बाप का वायदा है ना! कौनसा वायदा? ‘साथ चलेंगे, साथ रहेंगे, और परमधाम में साथ चलेंगे।’ और ब्रह्मा बाप का क्या वायदा है? ‘साथ रहेंगे, साथ चलेंगे, और सतयुग में साथ-साथ राज्य करेंगे’ - यह ब्रह्मा बाप का वायदा है। सभी को प्यार है? है? ब्रह्मा बाप से सबको प्यार है? किसी को नहीं है? (सबको है, बाबा) क्योंकि बिना ब्रह्मा बाप के तो बाप इस सृष्टि पर भी नहीं आ सकते। *क्योंकि वर्तमान समय संपन्नता, संपूर्णता की स्टेज नजदीक आ रही है ना, तो ब्रह्मा बाप के साथ राज्य करना है, तो बाप समान भी बनना है।* अपने आपको चेक करें, क्या मैं बाप समान बना हूँ। सभी को प्यार तो है, प्यार में सब पास हैं, पर क्या बनना है? क्या बनना है? समान बनना है ना। बने हैं? चेक करें।

अच्छा .. ऐसे बाप के गले का हार बनने वाले माला के मणके, बाप के दिल के करीब बच्चों को, ऐसे कदम में कदम रखकर साथ चलने वाले साथी बच्चों को, ऐसे बाप के दिल में बैठकर राज करने वाले राजे बच्चों को दिलाराम बापदादा का प्यार-भरा याद-प्यार, और आने वाले सतयुग की बधाई .. गुड मॉर्निंग!

सतयुग आने वाला है, समय समाप्ति की तरफ है। जो बच्चे उलझन में बैठे हैं .. है या नहीं .. उन बच्चों के लिए एक संदेश है - अपने को आत्मा समझ, बाप को प्यार से याद करें, नहीं तो समय निकल जाएगा और खिवैया अपनी नैया को लेकर उस पार चला जाएँगा। फिर पीछे एक भी नैया नहीं रहेंगी, और ना खिवैया रहेंगा क्योंकि *खिवैया भी एक है, और नैया भी एक ही है। तो नैया के पीछे लटकने वाले नहीं बनना है, एक दूसरे की पूँछ पकड़ने वाले भी नहीं बनना, नैया में सबसे आगे बैठने वाले खिवैया के साथी बनना है।* क्योंकि कभी-कभी लटकने वाले डूब जाते हैं, और नाँव में बैठने वाले पार हो जाते हैं। *तो सभी बच्चे बुद्धि में एक ही बात रखें कि मुझे खिवैया के साथ नैया में बैठकर चलना है।*

अच्छा बच्चों, संगमयुग पूरा होने वाला है। समय परिवर्तन की तरफ है। अभी समय आने वाला है, हर एक बच्चा दृष्टि पाकर ही अपनी यात्रा पे चलेंगा .. और आप बच्चे भाग्यशाली हो, जो बाप के सन्मुख बैठकर बाप के साथ मिलन मना रहे हो। *जिनको सच्चा प्रेम है उनके लिए खुशबू ही काफी है, एक दृष्टि ही काफी है।*

अच्छा .. सब अच्छा हो रहा है, अच्छा होंगा, और अच्छा हो चुका है, और आने वाले समय में सब के कल्याण के लिए बहुत अच्छा होंगा। अपनी तैयारी करें .. बाप की तैयारी हो चुकी है!

अच्छा बच्चों, फिर मिलेंगे ...

बाप ने सबको देखा है। *कोई भी बच्चा यह नहीं सोचना - बाबा आपने मुझे देखा है या नहीं देखा है। बाप भी बच्चों को यही कहेंगे बच्चों ने देखा हो या नहीं, पर बाप ने बच्चों का आदि-मध्य-अंत अच्छे से देखा है।*
Zorba the Greek
Posts: 41
Joined: 03 May 2019
Affinity to the BKWSU: BK supporter
Please give a short description of your interest in joining this forum.: To engage in fruitful discussions

Bap-Dada's LATEST & FINAL part

Post by Zorba the Greek »

🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️

Versions of Shiv Baba
28.08.2021

[ Through Mother Devaki - ‘Bharat Mata’, ‘Jagadamba’ - soul of Om Radhe, ‘Mateshwari’, Saraswati Mama (who had taken one more birth in an affluent family, between 1965 and the present birth) – who first gives Golden Age birth to Shri Krishna, and then takes her own Golden Age birth after 2 to 3 years in a different family - and the sustenance of Shri Krishna takes place through a different (Queen Yashoda) mother and father! ]

"Sweet children .. there is only One Boatman, and there is only one Boat. So, DO NOT become ones who are HANGING behind the Boat, DO NOT become ones who hold each other’s tail .. become the Companions of the Boatman - who sit right in the front of the Boat!"

Link: Baapdada Milan - 28.08.2021

OK .. today the Father, who is the ‘Comforter of Hearts’, has come to celebrate a Meeting with His Loveful children. Today, the Father has come to celebrate a Meeting with the children who have grand Hearts. ALL the children have Love, is it not? The Father attracted everyone with the thread of Love. The children who are extremely Loving .. those who are merged in Love .. are sitting in front of the Father. *The children received the message that Baba has come .. so the children were attracted with the thread of Love, and reached before the Father.* Some children have come to celebrate a Meeting .. some have come to see which Baba has come .. and some have come out of Love. *Whoever has come, and however one has come .. one has made one’s fortune. EACH and EVERY child who is sitting here is multi-million times fortunate.* Some children say, ‘we will go, we will celebrate a Meeting with the Father and come, and then we will tell you whether the Father has come, or someone else has come’ .. even such children are sitting in front of the Father. *But today, those who have ReCognized the Father, although they have not met the Father so far .. but who have Love .. such children will receive the (Spiritual) FRAGRANCE of the Father, NOW itself!*

Today, the Father has come to celebrate a Meeting with all the children anyway, but He has also come to ask whether the children will pass in the test paper of ‘suddenly’. Have you made such efforts? .. Do you have so much Love? When you belong to the Father, you make a promise to the Father, ‘Baba, wherever you make us sit, whatever you give us to eat, we are ready.’ But Baba wishes to ask EVERYONE, whether ALL the children are EVER READY? Some of you ask – ‘Baba, when will destruction take place?’ Children have these thoughts. Today, Baba is asking the children – have you FINISHED your old nature and sanskars? Have you? Who all have finished them? Those who have finished the old nature and sanskars COMPLETELY, clap with one hand (wave out) .. in whom the old nature and sanskars do not cause any hindrance to your efforts. Is there anyone?
If there are EVEN 20 children who can be counted in this gathering, then the Father would commence making preparations (for destruction). Leave alone 20 (children) .. there are not EVEN 2 such children, who have COMPLETELY FINISHED their old nature and sanskars. The old sanskars become more burdensome .. after belonging to the Father. If there is even a little sorrow, the stage fluctuates. You must transform. Will you? Will you (transform)? Who will do that? Will you give a time to the Father? The FOREMOST (old) nature and sanskar is ‘MINE’ .. by finishing ‘MINE’, to whom does everything belong? To whom – to Baba! Some children make a mistake .. they show their own form (old nature), and then they also repent later on. Some children come, celebrate a Meeting .. and what do they go and say – they do disservice .. and then they come again sometime and celebrate a Meeting with the Father, once again. *What does Baba say – children, even if you do not understand anything, do not allow such words to emerge from you mouth, for which you will have to repent later on, and you would have to receive the Father’s vision (‘dristi’), by lowering your neck.*
FINISH your (old) nature and sanskars .. the preparations of the Father are ready, but for whom is the Father waiting? He is waiting for the children, is He not? What do the children say – ‘Baba, give us some more time’ .. and then, such a time will come .. what will Baba say – ‘NOW, the Father DOES NOT have (ANY MORE) time’. So, is EVERYONE ready? Ready? Remove ‘MINE’, and surrender EVERYTHING. To whom does EVERYTHING belong? Have you surrendered? SURE? .. you will not take back as you leave? EVERYTHING belongs to the Father .. is it not? Do you say ‘yes’ .. with your heart? *Because the Father is giving the Sovereignty of the World to EACH and EVERY child, with His Heart. There is NO alloy mixed in that.* But when the turn of the children comes, then what do the children do – ‘Baba, half is Yours, and half is mine; Baba, this is an old sanskar, let it remain for now, we will surrender it after a little more time.’ What would Baba say .. you will receive your Sovereignty also AFTER some time. This way! *EVERYONE has to come in the Golden Age, is it not .. so check whether you have made the (first) lesson of the soul FIRM. Only one answer has to be given in the paper of ‘as in the beginning, so at the end’!*

When a newborn child comes into the world, he/she does not have the awareness of the body .. he/she is soul-conscious. And when that child grows up and becomes aged, then which is the last lesson? Which? ‘Now the soul has to leave the body and go away.’ Everyone has Love for the Father .. when one sound emerges that Baba has come there .. then such very Loving children will come from ANYWHERE, in order celebrate a Meeting (with the Father). Everyone has passed fully in Love, everyone has passed fully in checking. Besides that? Other than that? The Father enables EVERY child to have an EXPERIENCE. *It is NOT that the Father has left Madhuban .. so, He has stopped enabling them to have an EXPERIENCE. The Father enables EVERY child to have an EXPERIENCE, EVEN while sitting at home, and enables them to make efforts.* But in what do the children become careless? ‘Now the Father is not coming in Madhuban, what is the benefit in making efforts now – now we will live the remainder of our life according to (the customs and systems of) the world.’

Many children have gone back to the old world. Just because of one thing .. only because Baba is now not coming (to Madhuban). Many other children are making preparations to go (to the old world). Reason – that Baba is not coming to Madhuban (now). Is this TRUE Love (for the Father)? Is it? But the Father has made a promise, did He not? Which promise? *‘I will go with you, I will stay with you, and I will go to the Supreme Abode (‘Paramdham’) with you.’ And what is the promise of Father Brahma? ‘I will stay with you, I will go with you, and I will rule in the Golden Age along with you’ – this is the promise of Father Brahma.* Does EVERYONE have Love? Do you? Does EVERYONE have Love for Father Brahma? Is there anyone who does not have? [Everyone has, Baba] .. Because the Father (Shiva) cannot even come to this world without Father Brahma. *Since the stage of COMPLETENESS is drawing close at the present time, IF you have to rule along with Father Brahma, then you have also to become EQUAL to the Father (Brahma).* Check your own self, whether you have become EQUAL (to Father Brahma). EVERYONE has Love, EVERYONE has passed in Love, but what have you to become now? What have you to become? You have to become EQUAL (to Father Brahma). Have you become? Check this.

OK .. to those ‘Beads of the Rosary’ who are to become the Garland around the Neck of the Father, to the children who are CLOSE to the Father’s Heart, to those children who are the Companions who move along by placing their step in the steps (of Father Brahma), to the Royal children who rule by sitting within the Heart (of the Father), Love and Remembrance, FULL of Love, from the ‘Comforter of Hearts’, BapDada .. and CONGRATULATIONS for the forthcoming Golden Age .. and good morning! (Golden Morning)!

The Golden Age is about to come, Time (of this Cycle) is nearing completion. Those children who are sitting in a state of CONFUSION .. whether this is true, or not .. there is one message for such children – consider your self to be a soul, and Remember the Father with Love .. otherwise, the time will pass away, and the Boatman will take His Boat and go to the OTHER side. Then there will not be ANY Boat left behind, NOR will there be the Boatman .. because *there is only One Boatman, and there is only one Boat. So, DO NOT become ones who are HANGING behind the Boat, DO NOT become ones who hold each other’s tail .. become the Companions of the Boatman - who sit right in the front of the Boat!* Because, sometimes, those who keep hanging, DROWN .. and those who are sitting within the Boat go across (to the OTHER side). *So, ALL the children should keep ONLY ONE aspect within their intellects that .. I have to sit inside the Boat and go ALONG WITH the Boatman.*

OK children, the Confluence Age is about to end. Time is advancing towards TRANSFORMATION. Now the time will come when every child will ONLY receive the vision (‘dristi’ of the Father), and proceed on the journey (to the Soul World) .. and you children are FORTUNATE, because you are sitting in front of the Father and celebrating a Meeting with the Father. *The (Spiritual) FRAGRANCE (of the Father) itself is ENOUGH for those who have TRUE Love (for the Father) .. just ONE GLANCE is ENOUGH.*

OK .. EVERYTHING that is taking place is GOOD, it will be GOOD, and it has been GOOD .. and in the time to come, it will also be VERY GOOD, for the BENEFIT of EVERYONE. Make your preparations .. the preparations of the Father have (ALREADY) been made!

OK children, we will meet again ..

Baba has SEEN EVERYONE. *No child should think – ‘Baba, did you see me, or did you not see me?’ The Father would tell the children .. whether the children have seen or not, but the Father has seen the beginning, the middle, and the end of the children (of EVERY child), VERY WELL.*
destroy old world
Vishnu Party
Posts: 110
Joined: 09 Jul 2007
Affinity to the BKWSU: ex-BK

Bap-Dada's LATEST & FINAL part

Post by destroy old world »

🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️
ॐ... "पिताश्री" शिवबाबा याद है?

शिवबाबा की वाणी
12.09.2021

[ देवकी माता द्वारा - भारत-माता, जगदम्बा - ओम राधे, मातेश्वरी, सरस्वती मम्मा की आत्मा - (जिनका एक और जन्म अमीर परिवार में हुआ था - १९६५ के बाद, और इस जन्म के पहले) - जो पहले, श्री कृष्ण को सतयुगी जन्म देती है, फिर २-३ साल के बाद अपना सतयुगी जन्म अलग परिवार में लेती है - और श्री कृष्ण की पालना, अलग (रानी यशोदा) माता और पिता द्वारा होता है! ]

"मीठे बच्चे .. बाप साथ है, तो क्या नहीं हो सकता! समय कम है ना, सफलता ज्यादा होनी चाहिए, क्योंकि अब तलवार भी तेज और धार भी तेज है, और सफलता भी तेजी से होंगी। तो अपना संकल्प पावरफुल संकल्प बनावे।"

Link: https://www.youtube.com/watch?v=DgPUIFZXK10

अच्छा .. आज, बाप के सन्मुख मिलन की लगन में, प्यार में, लवलीन बच्चे बैठे हैं। सभी को प्यार है! आज, वरदानी बाप अपने सिकीलधे, लाडले बच्चों से मिलन मनाने आए हैं। बाप प्रत्यक्ष आए हैं, पर बच्चे छुप-छुप के आए हैं। छुप-छुप के आने वाले बच्चों को बाप दिल का स्नेह और याद-प्यार .. उन प्यारे बच्चों को। मिलने किससे आए हैं – बाप से मिलने आए हैं ना। इस सभा में छुपने वाले बच्चों को भी बाप प्रत्यक्ष रूप से देख रहे हैं। भल बोल के आए हैं कि ‘हम नहीं जाएँगे’ .. पर खींचके कौन लेके आया – ‘बाप का प्यार’। भल ढूँढने भी आए हैं। *जैसे बच्चे बाप को ढूँढने निकल पड़े, ऐसे बाप हर एक बच्चे को कोने-कोने से ढूँढने के लिए निकल पड़े हैं। जैसे बच्चों को बाप की खुशबू का मालूम है ना, ऐसे ही बाप भी बच्चों को एक-एक कोने से ढूँढ लेते हैं।* जब तक बाप नहीं आए, तब तक दिल में डर था। किस बात का डर था – ‘मेरा बाबा है, या नहीं!’

यह सभा निडर बच्चों की सभा है। यह सभा दानी बच्चों की सभा है .. क्योंकि बच्चे किसके हैं? किसके बच्चे हैं – ‘महादानी’, ‘वरदानी’ बाप के बच्चे हैं .. तो डर होगा? *जो पूरी विश्व को वरदानों से भरपूर करने वाले हो, जो पूरे संसार को मुक्ति-जीवनमुक्ति देने वाले बच्चे हो, जो पूरे विश्व में सतयुग लाने वाले बच्चे हो, क्या उन बच्चों के दिल में डर होगा, या प्यार होगा?* क्या होगा?

जो-जो बच्चे बाप को नजदीक से देख रहे हैं ना .. दिल में तो आया होगा ‘हम कैसे मिल सकते हैं .. इतना नजदीक से!’ क्योंकि आज तक दूर से मिले हैं ना। तो बाप क्या कहना चाहते हैं - *हर एक बच्चा बाप की दिल में है, और बाप हर एक बच्चे की दिल में है।* अपने आपको चेक करें .. प्यार किससे है? किससे है - बाप से है? बाप से है। जिनको बाप से प्यार है, वो बच्चे एक हाथ की ताली बजावे .. और जिनको ब्राह्मण परिवार से प्यार है, वो भी एक हाथ की ताली बजावे। और देहधारी से जिनको प्यार है? .. किसको है? बाप से प्यार है, ब्राह्मण परिवार से प्यार है। सतयुग में परिवार होगा, और इस समय आत्मा में भरे हुए संस्कार होंगे .. तो सतयुग में एक राज्य, एक धर्म, एक भाषा होगा .. और एकमत होगा। जब पहली-पहली बारी बाप के घर में आते हैं, तो किससे प्यार कराया जाता है .. पहली पहचान कौन सी होती है - आत्मा की। दूसरी पहचान - बाप की पहचान, घर की पहचान। और *अब सभी अपने आपको चेक करें .. जो बच्चे यह कहते हैं, ‘बाप नहीं आ सकता’। सभी अपनी-अपनी चेकिंग करें - वर्तमान समय आत्मा की पहचान कितनी है, और बाप की पहचान कितनी है।* है? खुद की पहचान किस-किस को है? [किसी ने हाथ उठाया] पूरी सभा में एक बच्चे को? खुद की पहचान किस-किस को है? कौन है आप? [आत्मा] .. और बाप की पहचान किस-किस को है? [मेजॉरिटी ने हाथ उठाये] खुद की पहचान में थोड़ा कम हैं, बाप की पहचान में मेजॉरिटी हैं .. तो इसका मतलब क्या हुआ .. क्या हुआ? *बाप से प्यार है, तो हर .. हर जगह जाएँगे – ‘कहाँ मेरा बाबा यहाँ तो नहीं बैठा हो?’ बाप से प्यार है, पर खुद की पहचान भूल गए हैं। कौनसी – ‘मैं कौन हूँ!’*

*‘आदि’ का पाठ ‘आत्मा’ है - ‘अंत’ का पाठ ‘आत्मा’ है। अंतिम समय की घड़ी आ गई। और हमारा पिता कौन है - आदि में भी परमात्मा, पिता, बाप बैठा है, मध्य में और अंत में भी बाप ही है, और साथ ले जाएँगा भी बाप .. तो डर किस बात का है?* किस-किस को डर है? सबसे बड़ा डर किस बात का है? सबसे बड़ा डर .. ब्राह्मण बच्चों में, सबसे बड़ा डर किस बात का है .. क्योंकि भक्ति वाले बच्चे फ्री बैठे हैं – ‘जहाँ बाप नैया लेके जाएँगा, हम वहीं चलेंगे’ .. पर ब्राह्मण बच्चों में डर है। भक्ति मार्ग वाले बच्चे बड़े प्यारे हैं, और फ्री हैं .. सब फ्री हैं। कोई बतावे डर किस बात का है? .. आवाज नहीं आया। [सभी ने जवाब दिए] .. ‘निकाल देंगे?’ सबसे बड़ा डर .. ‘निकाल देंगे’! *अच्छा, सेंटर से निकालेंगे .. बाप के दिल से निकाल सकता है? आप बच्चे कहाँ बैठे हैं, मालूम है - बाप की दिल में बैठे हैं। यह सृष्टि है .. आज जाना, कल जाना, सबको जाना .. पर बाप की दिल से, ना आज जाना, ना कल जाना, ना ऊपर जाके जाना। तो जो स्थान परमानेंट स्थान हो, उसमें बैठना चाहिए .. क्योंकि यह संसार टेम्परेरी है।* क्या है? .. [टेम्परेरी]। और बाप की दिल? बाप की दिल – ‘परमानेंट’, ‘फिक्स’ .. ‘गेरंटी’ के साथ है। तो अब देखें .. कि दिल में बैठना है, या स्थान में बैठना है। क्योंकि यहाँ बैठने वाला बच्चा, और जिनको बाप से सच्चा प्यार है, वो हर एक बच्चा .. बाप की दिल में बैठकर राज करेगा। वो राजे बच्चे हैं। तो आप बच्चे .. दिल के राजा बनना है, या सृष्टि के राजा बनना है? दिल के। पक्का? जिन-जिन को दिल के राजा बनना है, वो पक्का बन गए हैं .. और जिनको सृष्टि के राजा बनना है, वो अपनी राजाई अपने आप निश्चित करें .. क्योंकि *जो बाप के दिल के राजा बनेगा, वो सतयुग में भी राजा बनेंगा।*

खुश हो? बाप मिला है। *बाप का वायदा है .. कौन सा - साथ रहेंगे, साथ चलेंगे! ना बच्चे बाप को छोड़कर जा सकते हैं, और ना बाप बच्चों को छोड़कर जायेगा। यह संगमयुग है। संगम माना? संगम माना - संग रहने का युग .. ‘संगमयुग’। साथ चलने का युग ..‘संगमयुग’।*

देखो, यह भूमि (कोलकत्ता) ब्रह्मा बाप की कर्म भूमि है। ब्रह्मा बाप की कर्म भूमि पर कितना सेवा होना चाहिए। कितना होना चाहिए - बाप तो कहेंगा आधे से ज्यादा बच्चे बाप के बनने चाहिए, इस पूरा एरिया के। तो सभी का क्या विचार है? ब्रह्मा बाप की कर्म भूमि - तो आप बच्चे .. यह सोचना है कि यहाँ का बीज कितना पावरफुल होना चाहिए। खुशी होनी चाहिए - सृष्टि के आदि पिता की यह कर्म भूमि है। अगली बारी इस स्थान पर जितने बच्चे आप हो ना .. उसके 20 गुणा बच्चे होंगे। ठीक है .. पक्का .. 20 गुणा! उससे अगली बारी डबल गुणा होगा। कौन बच्चे यह सोच रहे हैं – ‘हम तो थोड़े से हैं, 20 गुणा कौन करेगा!’ किन्ही के मन में है? है? कौन करेगा? [बच्चों ने उत्तर दिया‘बाबा’] राज्य तो आप करेंगे। राज्य कौन करेगा – बच्चे .. और इसका 20 गुणा कौन करेगा - बाप करेगा? दोनों करेंगे, बाप और बच्चे मिलकर करेंगे .. क्योंकि ना बाप बच्चों के बिना कुछ करेगा, क्यों नहीं करेगा - क्योंकि बाप को राज्य नहीं करना। हाँ, लेकिन, ना बच्चे बाप के बिना कुछ करेंगे, क्यों नहीं करेंगे - क्योंकि शक्ति नहीं है। बाप मिला, तो पावर (power) मिली। 20 गुणा क्या, 100 गुणा भी कर सकते हैं! तो ‘पावरफुल संकल्प’ .. ‘पावरफुल’ .. *बाप साथ है, तो क्या नहीं हो सकता! समय कम है ना, सफलता ज्यादा होनी चाहिए, क्योंकि अब तलवार भी तेज और धार भी तेज है .. और सफलता भी तेजी से होंगी। तो अपना संकल्प पावरफुल संकल्प बनावे*, ठीक है? पर एक विशेष बात बुद्धि में रखेंगे, तो ही सब सफल हो सकेंगे। कौन सी बात .. बतावे? यह जो मेरेपन का संस्कार है ना – ‘मैंने इतनों को मिलाया .. मैंने इतनी सेवा की .. मेरे द्वारा यह हुआ .. मैं निमित्त हूँ’। एक छोटी सी बीमारी है - छोटी सी नहीं बड़ी है। कौनसी? कौनसी – ‘मैंने यह किया .. मेरे स्टूडेंट से बात नहीं करना .. मेरे सेंटर में नहीं आना .. मेरा एरिया ..’।

*मालूम है, सारी सेवाओं को एक ‘मैं’ की लकीरों ने रोक के रखा है।* जैसे भक्ति में क्या कहते हैं – ‘मेरा अल्लाह .. मेरा ईश्वर .. मेरा गॉड .. मेरा वाहेगुरु’। और ब्राह्मण बच्चों में क्या हो गया – ‘मेरा बाबा’, तो बहुत अच्छा है .. पर ‘मेरा बाबा और कहीं नहीं आ सकता!’ .. यह ‘मेरा’ .. अच्छा, भक्ति में कब कहा, ‘मेरा ईश्वर कहीं नहीं आ सकता?’ सुना कब? किसने-किसने सुना? या ‘मेरा गॉड कहीं नहीं आ सकता’। तो बाप क्या कहेंगा - जिनको ज्ञान है बाप का .. वो बच्चे क्या कहते हैं? क्या कहते हैं? जिनको ज्ञान नहीं वो फिर भी मानते हैं .. पर जिनको ज्ञान है?

क्या बाप इससे (शरीर से) बंधा है, या इस स्टेज से बंधा है? अच्छा *अगर बाप को भी मोह होगा, तो संसार का कल्याण कैसे होगा? अगर बाप को भी इस धरा का कोई व्यक्ति, वस्तु, बांध लेगा, तो इस सृष्टि का कल्याण कैसे होगा?* होगा? है कोई .. कर पाएगा? तो मेरेपन के जाल से मुक्त बनो। जिसको भी सुनाते हैं ज्ञान, क्या कहते हैं, सबको क्या सुनाते हैं – ‘मेरा-मेरा छोड़ो’ - यही कहते हैं ना? जिसने कहा - ‘मेरा-मेरा छोड़ो, वो सब मेरा हमें दे दो’ - तो क्या हुआ? ले लिया .. पर बाप को देना भूल गए। दूसरों से ‘मेरा-मेरा’ लेकर, झोली तो भर ली, पर बाप को देना भूल गए। *जिसके मन से, दिल से ‘मैंपन’ निकल गया, उस बच्चे को सेवाओं में कोई रोक नहीं पायेंगा।*

अच्छा सभी अपना नाम बतावे .. क्या नाम है? [आत्मा] और आपके पिता का नाम क्या है? [परमात्मा] घर कहाँ पर है? [परमधाम] अच्छा, यह जो बताया, यह सच्चा पता है, या झूठा? सच्चा है ना? जो आप अपनी पॉकेट में लेके घूमते हो, वो सच्चा है या झूठा - वो कौन सा पता है? जैसे यह शरीर झूठा है .. झूठा मतलब क्या - जो कभी साथ नहीं देता। तो इस शरीर का पता भी झूठा है .. सच्चा पता किसका है - आत्मा का, पिता का, परमधाम घर का .. यह सच्चा पता है। जो सच्चा है उसे भूल गए। तो बाप को कभी भी भूलना नहीं है .. ‘मेरा तो एक बाप, दूसरा ना कोई’.. पक्का?

अच्छा बच्चों .. ऐसे वरदानी बच्चों को, बाप के दिल में बैठने वाले ऐसे राजा बच्चों को .. बापदादा का दिल का याद-प्यार, और आने वाले स्वर्ग की सबको मुबारक हो, मुबारक हो।

सतयुग जल्दी आने वाला है।
Zorba the Greek
Posts: 41
Joined: 03 May 2019
Affinity to the BKWSU: BK supporter
Please give a short description of your interest in joining this forum.: To engage in fruitful discussions

Bap-Dada's LATEST & FINAL part

Post by Zorba the Greek »

🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️

Versions of Shiv Baba
12.09.2021

[ Through Mother Devaki - ‘Bharat Mata’, ‘Jagadamba’ - soul of Om Radhe, ‘Mateshwari’, Saraswati Mama (who had taken one more birth in an affluent family, between 1965 and the present birth) – who first gives Golden Age birth to Shri Krishna, and then takes her own Golden Age birth after 2 to 3 years in a different family - and the sustenance of Shri Krishna takes place through a different (Queen Yashoda) mother and father! ]

"Sweet children .. What cannot take place when the Father is WITH you! The time is short, there should be greater success .. because, NOW the Sword is also swift and the Blade is also sharp .. and success will also take place RAPIDLY. So, let your thoughts become POWERFUL!"

Link: Baapdada Milan - 12.09.2021

OK .. Today, the children who are merged in Love are sitting in front of the Father, with intense Love for the Meeting (with BapDada). Everyone has Love! Today, the Father, the Bestower of Blessings, has come to celebrate a Meeting with his beloved, ‘long-lost-and-now-found’ children. The Father has come openly, but the children have come secretively. The Father gives Love from His Heart, and Loveful Remembrances, to those lovely children who have come secretively. Whom have you come to Meet – you have come to Meet the Father, is it not? The Father is openly seeing .. even those children who have come secretively in this gathering. They have come after telling that ‘they will not go’ (to Meet Baba) .. but what attracted them and brought them here – ‘the Love of the Father’. Some have even come to find (the Father). *Just as the children have set out to find the Father, in the same way the Father has set out to locate every child from every corner. Just as the children feel the (Spiritual) fragrance of the Father, in the same way the Father locates the children from each and every corner.* They had fear within the heart, until the Father came. What fear did they have – ‘is this my Baba, or not!’

This gathering is the gathering of fearless children. This gathering is the gathering of children who are donors .. because, whose children are you? Whose children are you – you are the children of the ‘GREATEST Donor’, the ‘Bestower of Blessings’ .. so, would you have any fear? *Those who give abundant blessings to the (souls of the) whole world, those who give liberation and liberation-in-life to the whole world, those who usher in the Golden Age in the whole world .. would there be any fear within the hearts of such children, or would there be Love?* What would there be?

Those children who are seeing the Father so close .. would feel within their hearts, ‘how can we meet .. so close!’ Because until today, you have met from far away, is it not? So, what does the Father wish to say - *EACH and EVERY child is WITHIN the Heart of the Father, and the Father is WITHIN the heart of EACH and EVERY child.* Check your OWN self .. whom do you have Love for? Whom – for the Father? You have (Love) for the Father. Those children who have Love for the Father, clap with one hand .. and those who have Love for the Brahmin Family, also clap with one hand. And those who have love for a bodily person? .. Whom do you have (Love for)? You have Love for the Father, and you have Love for the Brahmin Family. You will have a family in Golden Age, and you will have the sanskars which have been filled within you souls at this time (in Confluence Age) .. so, in Golden Age there will be ONE Kingdom, ONE religion, ONE language .. and UNANIMITY. Whom are you made to Love, when you come to the Home of the Father for the very first time .. which is the first ReCognition you have – of the soul; and the second ReCognition - the ReCognition of the Father, the ReCognition of your Home (Soul World). So, *now everyone should check their OWN selves .. those children who say that ‘the Father CANNOT come’. Everyone should check their OWN selves – at PRESENT, to what extent do you have the ReCognition (EXPERIENCE) of the soul, and to what extent do you have the ReCognition (EXPERIENCE) of the Father.* Do you have? Who all have the ReCognition of you OWN selves? [someone raised his hand] Only one child in the whole gathering? .. Who all have the ReCognition of you OWN selves? Who are you? [soul] .. and who all have the ReCognition of the Father? [majority raised their hands]. There are only a few who have ReCognition of their OWN selves, and the majority have ReCognition of the Father .. so, what does this mean .. what does it mean? *When there is Love for the Father, then you would go to ANY place – (to determine whether) ‘my Father is sitting here or not?’ You have Love for the Father, but you have forgotten to ReCognize your OWN self. Which ReCognition – ‘who am I!’*

*The lesson of the very beginning, is ‘soul’ – and the lesson of the very end, is also ‘soul’. The time of the FINAL period has come. And who is our Father – in the beginning too, the Supreme Soul, the Father was sitting; and in the middle, and at the end too, there is the (SAME) Father; and ONLY the Father will take all of you along with Him .. so, what is there to fear about?* Who all have fear? Of what do you have the greatest fear? The greatest fear .. of what is the greatest fear within the Brahmin children .. because the children of the ‘path of devotion’ are sitting freely – ‘we will go only there, wherever the Father takes the Boat’ .. but the Brahmin children have fear. The children of the ‘path of devotion’ are very Loving, and they are FREE .. all are free. Can anyone tell .. of what is there fear? .. [everyone gave their reply] Your voice was not audible .. ‘you will be removed?’ The greatest fear .. ‘you will be removed (from the Center)’! *OK, you will be removed from the Center .. can ANYONE remove you from the Heart of the Father? Where are you children sitting, do you know – you are sitting within the Heart of the Father. This world is such .. you would have to go today, or go tomorrow, everyone has to go .. but from the Heart of the Father – you do not have to go today, nor tomorrow, nor after going UP (to the Soul World). Therefore, you should sit in the place which is PERMANENT .. because this world is TEMPORARY.* What is it? [temporary]. And the Heart of the Father is PERMANENT, FIXED .. along with a GUARANTEE. So, now determine .. whether you have to sit within the Heart (of Baba), or whether you have to sit in the place (of the Center). Because the child who is sitting here, and those who have TRUE Love for the Father .. EVERY such child will sit within the Heart of the Father and rule. They are ROYAL souls. So, you children .. do you wish to become the Sovereign of the Heart, or the Sovereign of the World? Of the Heart? SURE? Those who wish to become the Sovereigns of the Heart have certainly become .. and those who wish to become the Sovereigns of the World, may determine your own Sovereignty, yourselves .. because *the one who becomes the Sovereign of the Father’s Heart, will ALSO become the Sovereign of the Golden Age.*

Is everyone Happy? You have met the Father. *The Father’s promise is .. which one – ‘I will stay with you, and I will go along with you!’ Neither can the children leave the Father and go, nor the Father will leave the children and go. This is the Confluence Age. Confluence means? Confluence means – the Age of REMAINING in your company .. ‘Confluence Age’; the Age of going ALONG with you .. ‘Confluence Age’.*

Look, this land (Kolkata) is the land of ACTIONS of Father Brahma. So, how much Service should be done at the land of ACTIONS of Father Brahma? How much Service should there be – the Father would say that from this whole area, more than half the children should belong to the Father. So, what does everyone think? The land of ACTIONS of Father Brahma – so, you children .. should think how Powerful the Seeds from here should be. You should have Happiness – this is the land of ACTIONS of the original (‘Alokik’) Father of the World. The next time there will be 20 times more children in this place, than those who are present now. OK? .. SURE? .. 20 times! And after the next time there will be TWICE as many. Who are the children who are thinking – ‘we are only a few, who will make 20 times?’ Does anyone have this in the mind? Do you? Who will make? [the children replied – ‘Baba’] .. You are the ones who will rule. Who will rule – the children .. and who will make this 20 times – will the Father do that? BOTH will do, the Father and the children will make TOGETHER .. because, neither will the Father do anything without the children, why would He not do – because the Father does not have to rule. Yes, but, nor will the children do anything without the Father, why would they not do – because they do not have that Power. You have met the Father, so you have received the Power. Leave alone 20 times, you can even make 100 times! So, let there be a ‘powerful thought’ .. ‘POWERFUL’ .. *What cannot take place when the Father is WITH you! The time is short, there should be greater success .. because, NOW the Sword is also swift and the Blade is also sharp .. and success will also take place RAPIDLY. So, let your thoughts become POWERFUL*, OK? However, keep one specific aspect within the intellect, and only then will you be successful. Which aspect .. shall I tell you? This sanskar of ‘MINE’ – ‘I enabled so many to Meet .. I did this much Service .. this happened through me .. I am instrumental in this’. This is a small DisEASE – not a small one, but a HUGE one. Which one? Which one – ‘I did this .. do not speak with my student .. do not come to my Center .. my area ..’.

*Do you know .. ALL the Services have been HELD UP by the lines of one ‘My’* Just like what they say on the path of devotion – ‘my Allah .. my Ishwar .. my God .. my VaheGuru’. And what has taken place within the Brahmin children .. [someone said, ‘My Baba’] – ‘My Baba’ is very good .. but ‘My Baba CANNOT come ANYWHERE ELSE!’ .. this ‘My’ (is an OBSTRUCTION) .. OK, was it ever said on the path of devotion, ‘My Ishwar CANNOT come ANYWHERE ELSE?’ Did you EVER hear this? Who all heard? Or, ‘My God CANNOT come ANYWHERE ELSE’. So, what would the Father say – those who have Knowledge of the Father .. what do those children say? What do they say? Those who DO NOT have this Knowledge, they still believe .. but those who have Knowledge?

Is the Father tied to this (the body), or is He tied to this stage? OK, *if EVEN the Father would have attachment, then how would the (whole) world be benefitted? If ANY person or thing could tie EVEN the Father to this earth, then how could this world be benefitted?* Will it? Is there ANYONE (ELSE) .. who will be able to do this (benefit the whole world)? So, become FREE from the web of ‘My-ness’. What do you say to whomever you relate the Knowledge .. what do you relate to everyone – ‘Leave My-My’ – you say this, is it not? The ones who said – ‘Leave My-My, and give all that My to us’ – then what happened? You took that .. but you forgot to give (surrender) that to the Father. By taking ‘My-My’ from others, you filled your aprons, but you forgot to surrender same to the Father. *No one will be able to HOLD UP the Services of a child from whose mind and heart ‘My-ness’ has left.*

OK, everyone can tell your name .. what is your name? [soul] .. And what is the name of your Father? [Supreme Soul]. Where is your Home? [Supreme Abode] .. OK, what you said .. is this the TRUE address, or is it FALSE? It is TRUE, is it not? And what you carry in your ‘pocket’ and go around, is that TRUE or FALSE – which address is that? Just as this body is FALSE .. what is the meaning of FALSE – that which does not accompany you. So, the address of this body is also FALSE .. whose address is TRUE – that of the soul, of the Father, and of your Home, the Supreme Abode .. this is the TRUE address. You have forgotten that which is TRUE! *So, NEVER forget the Father .. ‘Mine is ONE Father, and NONE other’ .. is this FIRM?*

OK children .. to such children who are the ‘bestowers of blessings’, to such royal children who sit within the Heart of the Father .. Love and Remembrances from the Heart of BapDada, and congratulations for the forthcoming Paradise .. congratulations.

*The Golden Age will arrive SOON!*
destroy old world
Vishnu Party
Posts: 110
Joined: 09 Jul 2007
Affinity to the BKWSU: ex-BK

Bap-Dada's LATEST & FINAL part

Post by destroy old world »

🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️
ॐ... "पिताश्री" शिवबाबा याद है?

शिवबाबा की वाणी
13.05.2021

[ देवकी माता द्वारा - भारत-माता, जगदम्बा - ओम राधे, मातेश्वरी, सरस्वती मम्मा की आत्मा - (जिनका एक और जन्म अमीर परिवार में हुआ था - १९६५ के बाद, और इस जन्म के पहले) - जो पहले, श्री कृष्ण को सतयुगी जन्म देती है, फिर २-३ साल के बाद अपना सतयुगी जन्म अलग परिवार में लेती है - और श्री कृष्ण की पालना, अलग (रानी यशोदा) माता और पिता द्वारा होता है! ]

"मीठे बच्चे .. सतगुरु सच्चा-सच्चा है, तो उसको सच्चे-सच्चे बच्चे चाहिए। .. बाप के पास तो ऐसे हीरे हैं, जो तीनों पार्ट में नहीं मिले, पर फिर भी समर्पण बुद्धि है। प्यार को बलिहारी चाहिए, परिवर्तन ज्यादा चाहिए।"

Link: https://www.youtube.com/watch?v=8TYRMrNI-hU

अच्छा .. आज सतगुरु बाप, अपने सच्चे-सच्चे साथियों से मिलन मनाने आए हैं। सतगुरु का अर्थ क्या है? सच्चा-सच्चा साथ निभाने वाला ‘सतगुरु’। जो इस संसार में ‘सत’ अर्थात सत्य, और ‘गुरु’ अर्थात शिक्षा देने वाला, साथ ले जाने वाला। सतगुरु बाप आया है, सच्चे-सच्चे बच्चों से मिलन मनाने। अपने मन में चेक करें .. वर्तमान समय किसी भी प्रकार की हलचल तो नहीं है? अचल है .. या हलचल में हैं? क्योंकि बाप क्या कहेंगा? जब सतगुरु सच्चा-सच्चा है, तो उसके बच्चे कैसे होने चाहिए? बाप को सच्चे-सच्चे बच्चे चाहिए।

अच्छा .. आज पूरे विश्व में, विश्व एक छोटा सा गोला है, तीनों लोकों का एक छोटा सा हिस्सा है। वंडरफुल बात यह है कि इस छोटे से गोले पर ही कितना पाप कर्म भी हैं, पुण्य कर्म भी हैं। लेकिन वर्तमान समय में क्या है? पाप भी जन्म-जन्म से करते आ रहे हैं। पुण्य की कहानी भी द्वापरयुग से शुरू होती है। लेकिन वर्तमान समय क्या है? *वर्तमान समय हिसाब-किताब का समय है।* बुद्धि योग किधर है? अपना-अपना स्थिति कितना पावरफुल है? पावरफुल है? बच्चे कहते हैं, ‘बाबा हम एकदम एवररेडी हैं।’ बाप क्या कहते हैं? अच्छा, तो एक छोटा पेपर लेवे? पर जब पेपर आता है, तो क्या कहते हैं? क्या कहते हैं – ‘बाबा, अभी थोड़ा रुको ना!’ क्या बाप बच्चों का इंतजार करता रहेगा? *अब बाप इंतजार नहीं करेंगा .. क्योंकि बाप ने पूरा-पूरा इंतजाम कर दिया है।* आज बाप सिर्फ यहाँ वालों से मिलन मनाने नहीं आए हैं। आज बाप के सन्मुख समस्त विश्व की आत्माएं बैठी हैं। एक वो बच्चे हैं जो आदि में मिलन मना रहे थे; एक वो बच्चे जिन्होंने मध्य में मिलन मनाया; और तीसरे वो बच्चे जो अंतिम समय में मिलन मना रहे हैं। *और वो बच्चे भी हैं जिन्होंने तीनों पार्ट में मिलन नहीं मनाया, पर बाप की याद इतनी पावरफुल है, इतनी पावरफुल है, कि जब तीनों पार्ट में मिलन मना करके भी उन्ही की लाइन में आने वाली, वो आदि सो अंत में पार्ट नहीं बजाने वाली, पर फिर भी, 108 की माला में आने वाली हैं, अपने तीव्र पुरुषार्थ से।* आज उन आत्माओं से भी बाप मिलन मना रहे हैं, जो कि बाप पूरे सृष्टि के गोले पर बैठकर सभी को देख रहे हैं। इस विश्व में कैसे-कैसे बच्चे हैं .. जानते हैं? आदि वाले भी हैं; बीच, मध्य वाले भी हैं; अंतिम वाले भी हैं। पर इन सबसे ऊपर जिनके कर्म इतने श्रेष्ठ हैं, जिनको बाप का ज्ञान भी नहीं, फिर भी कर्म इतने महान हैं, आज वो भी बाप को देख रहे हैं और बाप भी उनको देख रहे हैं। *इसलिए बाप क्या कहते हैं? ज्ञान का अभिमान बिल्कुल नहीं, क्योंकि जो बाप के ज्ञान में भी नहीं है वो भी 50 वर्ष वालों से 10 कदम आगे हैं, क्योंकि विश्व तो बाप का है ना! पालन करता है, तो किस कोने में बैठकर बाप उनकी पालना कर रहा है।* और बाप क्या कहेंगा? वर्तमान में, या आदि में, या मध्य के पार्ट में, इतने वर्ष बाप से मिलन मनाकर अगर परिवर्तन नहीं हुआ, तो बाप क्या कहेगा? सभी अपना-अपना नाम अपने आप ही रख लेवे, क्योंकि बाप हर उस बच्चे का सम्मान करता है, जो बाप के कार्य में बहुत मददगार हैं। पर अगर बच्चे ऐसे सोचते हैं हम इतने पुराने, इतने वर्ष हमने दिए, तो यह बच्चों का अपना, अपने आप में ही, अपना अभिमान करते हैं, परिवर्तन ना होकर, ज्ञान का अभिमान दिखाकर। *क्योंकि बाप क्या कहते हैं? बाप के पास तो ऐसे हीरे हैं, जो तीनों पार्ट में भी नहीं मिले, पर फिर भी ‘समर्पण-समर्पण-समर्पण बुद्धि’ हैं। जिनको आत्मा का ज्ञान नहीं है, फिर भी वो बच्चे 108 की माला के मणके हैं।*

*अब बच्चों के मन में संकल्प भी चलेंगा जो बाप से नहीं मिला वो सतयुग में कैसे आएंगा? अभी तक नहीं मिला ना! वो मणके ऐसे हैं जो एक बार, एक घड़ी भी बाप मिल गया, इतना पुरुषार्थ करेंगे, जो 80 वर्ष में भी किसने नहीं किया होंगा।* इसलिए बाप के पास अपना चाबी है, और अगर बच्चे को यह लगता है कि हमारे पास सारे ज्ञान की चाबी, संपूर्ण ज्ञान की चाबी है, तो बाप यह कहेंगा .. क्या कहेगा - कि फिर आपने बाप को जाना ही नहीं। तो फिर आपको बाप की परख ही नहीं हुई!

आप बच्चे इस धरा का ज्ञान जानते हैं। ज्यादा से ज्यादा इस सृष्टि का, परमधाम का। सूक्ष्म वतन का भी कितना जान पाए हैं? कितना? परमधाम को भी किसने देखा है? परमधाम कैसा है, किसको मालूम है? सूक्ष्मवतन में क्या-क्या है किसको मालूम है? अच्छा, वो दोनो लोक तो छोड़ दो, इस सृष्टि का ही पूरा मालूम किसको है? वो दोनों लोक तो बहुत बड़ी बात है। जिस धरा पर आप बच्चे हैं, इस प्रकृति का, इस सृष्टि का ज्ञान जब साइंस का साधन नहीं प्राप्त कर सका, तो ब्राह्मण बच्चों में ताकत है? *तो फिर क्यों कहते हैं कि हम बहुत पुराने ज्ञानी हैं? क्यों कहते हैं कि हमें ज्ञान का सब सार मालूम है। किस बात का अभिमान दिखाते हैं, कि जो कहते हैं कि हम संपूर्ण ज्ञानी हैं, संपूर्ण योगी हैं, और धारणा है। यह आज समस्त ब्राह्मण परिवार से बाप का एक सवाल है। एक छोटा पेपर तो नहीं खोज पाए कि मैं आत्मा हूँ। इसका जवाब लिखने में इतना तकलीफ हो रहा है।*
जब समस्त संसार पूरी प्रकृति को ऐसे बड़े रूप में देखेंगे तब क्या कहेंगे? बाप यही कहने आए हैं कि जो ज्ञान आपके पास है, और जो बाप आपके पास है, वो समस्त संसार में किसके पास भी नहीं है। जो बाप का परिचय आप बच्चों के पास है वो पूरे विश्व में .. उन जिनको बाप का मालूम ही नहीं, किसके पास भी नहीं हैं। तो कितनी खुशी होनी चाहिए, कितना नशा होना चाहिए।

*कहते हैं ना बाबा हम आपसे प्यार करते हैं। मेजॉरिटी कहते हैं। प्यार क्या कहता है? कि मुझे बलिहारी चाहिए। प्यार कहता है, मुझे प्यार कम, और परिवर्तन ज्यादा चाहिए।* संसार का प्यार, एक आत्मा का प्यार, एक मनुष्य का प्यार, पावन से पतित और पतित से पावन अर्थात विकारी से निर्विकार, और निर्विकार से विकारी भी बनाता है। अगर दो आत्माओं में प्रेम है, तो दोनों का संस्कार अलग-अलग है, तो प्रेम क्या करता है? दोनों एक दूसरे को एक दूसरे जैसा बनाने का कोशिश करेगा। पर उसमें कोई प्राप्ति नहीं है, कोई सुख नहीं! हाँ, अगर अच्छा है, सच्चा है, तो सच्चा बन जावे, तो प्राप्ति ही प्राप्ति है। अगर मनुष्य का प्यार सच्चे से झूठा बना देता है, तो क्या होगा? कोई प्राप्ति नहीं। लेकिन यहाँ तो किसका प्यार है? किसका प्यार है? समस्त विश्व की आत्माओं के परमपिता का प्यार है। तो कितनी प्राप्ति होनी चाहिए!

अच्छा .. यह तो हुई अपने ब्राह्मण परिवार के लिए बात। अभी जो अज्ञानी है, जिन्होंने आज तक शास्त्र ही पढ़ें हैं, वो क्या सोचते आएं हैं - जब परमात्मा आएंगा तो बहुत बड़ा चमत्कार दिखाएंगा, सीधा ऊपर से ही आएंगा, अवतरित होंगा। लेकिन फिर दूसरे पन्ने में यह है कि परमात्मा तो आएंगा पर एकदम साधारण तन में आएंगा। ये दोनों ही बातें सत्य हैं। कैसे? कि जिन्होंने साधारण तन में बाप को पहचाना वो महान ते महान बनके सतयुग में मास्टर भगवान-भगवती बन गए। और जो चमत्कार की इच्छा रखके बैठे हैं उनके लिए इस अंतिम कलयुग के विनाश के समय, सच में ही बाप अपना विराट रूप लेकर अवतरित होंगा। पर उनको कुछ नहीं मिलेंगा, क्योंकि वो चमत्कार की जो इच्छा रखते हैं। हाँ, उनको एक चीज जरूर मिलेंगा –‘मुक्ति’, वो भी आधा कल्प की। जो आज बड़े-बड़े महात्माएं इस दिन का इंतजार कर रहे हैं .. तो वो दिन भी आने वाला है कि सभी की दृष्टि जाएंगी और क्या कहेंगे – ‘वाह! हे प्रभु तेरी लीला अपरम अपार है।’ ऐसा विराट रूप भी अब दिखने वाला है।

अच्छा .. ऐसे परिवर्तन का बीड़ा उठाने वाले, हर कदम में सफलता प्राप्त करने वाले, मेहनत कम और प्राप्ति ज्यादा करने वाले, ऐसे तीनों लोकों के ज्ञाता बच्चों को, ऐसे बाप को पहचानने वाले (तीसरे रथ द्वारा), ‘पास विथ ऑनर’ बनने वाले, ऐसे सफलतामूर्त, आदि-मध्य-अंत ऐसे हीरो बच्चों को, और ऐसे जो अभी तक भी बाप से मिले नहीं उन 108 की माला के मणकों को बापदादा का यादप्यार .. और समस्त प्रकृति की तरफ से और अपनी तरफ से प्यारभरा यादप्यार और नमस्ते।
अच्छा, फिर मिलेंगे।

ज्ञान के कीड़े बुद्धि से निकाल देवें। प्रेम की तितली उड़ावे, तो सब तरफ खुशबू फैलेंगी। प्रेम का फूल अपने मन मंदिर में खिलावे क्योंकि जो कीड़ा होता है ना वो धरती को भी खोखला करता है, और हमारे मन रूपी धरणी को भी खोखला करता है। कहते हैं ना इस शरीर में जरूरत से ज्यादा कोई भी चीज अगर गई, तो वो हानिकारक है। *ऐसे ही इस मस्तिष्क में जरूरत से ज्यादा ज्ञान गया, तो बड़े ते बड़ा हानिकारक है। और जरूरत से ज्यादा पागलपन दिखाया वो भी हानिकारक है। ‘बैलेंस’, ‘स्थिरता’! बैलेंस बनाओ। अगर कोई सुनाता है, समझाता है, तो परखो .. अपना ठप्पा नहीं लगाओ कि ‘नहीं, बाप ऐसा आ ही नहीं सकता!’* क्यों? किसने खरीद रखा है संसार को? है कोई इतना बड़ा अरब खरबपति जो इस संसार को खरीद लेवे। है किसकी ताकत? जब कोई एक धर्म नहीं खरीद पाया, तो जो भी बच्चे हैं जो कहते हैं, ‘ऐसा नहीं होंगा, ऐसा हो ही नहीं सकता।’ शब्द ऐसे बोले जिसमें दम हो, ताकत हो, व्यर्थ के कीड़े नहीं पाले। नहीं तो एक दिन खोखला कर देंगे, और सब समाप्त हो जाएंगा।

आज समस्त विश्व में भी मेजॉरिटी आज की दुनिया में, मेजॉरिटी बच्चों ने प्रकृति को कितनी पीड़ा दी है, कितना तकलीफ दिया है। हिसाब-किताब है ना। कहते हैं, ‘माँ में बड़ी सहनशक्ति होती है’, पर जब वही माँ विकराल रूप धारण करती है ना, जन्म से लेके मरण तक का सूत समेत वापिस लेती है। मरने के बाद भी नहीं छोड़ती। तो यह बाप का संदेश आज भी सभी विश्व की उन आत्माओं के लिए, जो प्रकृति को पीड़ा देते हैं, उसको दर्द देते हैं। जो शरीर प्रकृति ने दिया, उसको दर्द देना, यह भी पाप कर्म है। एक दूसरे पर हिंसा करना सबसे बड़ा पाप कर्म है। समझे? विशेष अटेंशन! फिर नहीं कहना! बाप आपने बताया नहीं।

अच्छा, फिर मिलेंगे ...
Post Reply

Who is online

Users browsing this forum: No registered users and 1 guest