Search found 75 matches

by Adam
28 Jan 2020
Forum: Ideological Interpretation of the Yagya History: BK and PBK versions
Topic: SM & AV points for churning – Revised in 2020
Replies: 25
Views: 558

SM & AV points for churning – Revised in 2020

Sakar Murli Revised on 28.01.2020 तुम हो रूप-बसन्त। तुम्हारी आत्मा में सारा ज्ञान भरा जाता है, तो रत्न निकलने चाहिए। अपने को समझना है हम संगमयुगी ब्राह्मण हैं। कोई तो यह भी समझते नहीं हैं। अगर अपने को संगमयुगी समझें तो सतयुग के झाड़ देखने में आयें, और अथाह खुशी भी रहे। बाप जो समझाते हैं वह अन्दर रिप...
by Adam
27 Jan 2020
Forum: Ideological Interpretation of the Yagya History: BK and PBK versions
Topic: SM & AV points for churning – Revised in 2020
Replies: 25
Views: 558

SM & AV points for churning – Revised in 2020

Sakar Murli Revised on 27.01.2020 तुम बच्चों को मालूम पड़ गया है - बाबा कल्प-कल्प संगमयुग पर आते हैं। यह है बेहद की रात। शिवबाबा बेहद की रात में आते हैं, कृष्ण की बात नहीं; जब घोर अन्धियारे में अज्ञान नींद में सोये रहते हैं, तब ज्ञान सूर्य बाप आते हैं, बच्चों को दिन में ले जाने। कहते हैं, मुझे याद क...
by Adam
25 Jan 2020
Forum: Ideological Interpretation of the Yagya History: BK and PBK versions
Topic: SM & AV points for churning – Revised in 2020
Replies: 25
Views: 558

SM & AV points for churning – Revised in 2020

Sakar Murli Revised on 25.01.2020 ऊंच ते ऊंच भगवान की महिमा भी की है, और फिर ग्लानि भी की है। अब ऊंच ते ऊंच बाप खुद आकर परिचय देते हैं; और फिर जब रावण राज्य शुरू होता है तो (रावण) अपनी ऊंचाई दिखाते हैं। भक्ति मार्ग में भक्ति का ही राज्य है, इसलिए कहा जाता है रावण राज्य। वह राम राज्य, यह रावण राज्य। ...
by Adam
24 Jan 2020
Forum: Ideological Interpretation of the Yagya History: BK and PBK versions
Topic: SM & AV points for churning – Revised in 2020
Replies: 25
Views: 558

SM & AV points for churning – Revised in 2020

Sakar Murli Revised on 24.01.2020 गीत:- मरना तेरी गली में ... सिवाए तुम ब्राह्मण बच्चों के इस गीत का अर्थ कोई समझ न सके। जैसे वेद-शास्त्र आदि बनाये हैं, परन्तु जो कुछ पढ़ते हैं उसका अर्थ नहीं समझ सकते; इसलिए बाप कहते हैं, मैं ब्रह्मा मुख द्वारा सब वेदों-शास्त्रों का सार समझाता हूँ; वैसे ही इन गीतों ...
by Adam
23 Jan 2020
Forum: Ideological Interpretation of the Yagya History: BK and PBK versions
Topic: SM & AV points for churning – Revised in 2020
Replies: 25
Views: 558

SM & AV points for churning – Revised in 2020

Sakar Murli Revised on 23.01.2020 कोई का योग है, तो फिर ज्ञान नहीं, धारणा नहीं होती। सर्विस करने वाले बच्चों को ज्ञान की धारणा अच्छी हो सकती है। बाप आकर मनुष्य को देवता बनाने की सेवा करे, और बच्चे कोई सेवा न करें तो वह क्या काम के? वह दिल पर चढ़ कैसे सकते? बाप कहते हैं - ड्रामा में मेरा पार्ट ही है ...
by Adam
22 Jan 2020
Forum: Ideological Interpretation of the Yagya History: BK and PBK versions
Topic: SM & AV points for churning – Revised in 2020
Replies: 25
Views: 558

SM & AV points for churning – Revised in 2020

Sakar Murli Revised on 22.01.2020 भारतवासी ही 100 परसेन्ट सतोप्रधान, फिर 100 परसेन्ट तमोप्रधान बनते हैं। Only the people of Bharat become 100% satopradhan, and then 100% tamopradhan. यह शिव जयन्ती का त्योहार वास्तव में तुम्हारी सच्ची दीपावली है। जब शिव बाप आते हैं, तो घर-घर में रोशनी हो जाती है। इस ...
by Adam
21 Jan 2020
Forum: Ideological Interpretation of the Yagya History: BK and PBK versions
Topic: SM & AV points for churning – Revised in 2020
Replies: 25
Views: 558

SM & AV points for churning – Revised in 2020

Sakar Murli Revised on 21.01.2020 मुख्य है ही आत्मा और परमात्मा की बात। मनुष्य आत्मा को ही नहीं जानते हैं, तो परमात्मा को फिर कैसे जान सकेंगे? The main aspects are of souls and the Supreme Soul. People don’t even know (experience) what a soul is, and so how could they know (experience) the Supreme S...
by Adam
20 Jan 2020
Forum: Ideological Interpretation of the Yagya History: BK and PBK versions
Topic: SM & AV points for churning – Revised in 2020
Replies: 25
Views: 558

SM & AV points for churning – Revised in 2020

Sakar Murli Revised on 20.01.2020 अभी तुम बच्चों को पुण्य आत्मा बनना है। कोई भी पाप नहीं करना है। पाप भी अनेक प्रकार के होते हैं। कोई पर बुरी दृष्टि जाती है तो यह भी पाप है। बुरी दृष्टि होती ही है विकार की। वह है सबसे खराब। कभी भी विकार की दृष्टि नहीं जानी चाहिए। अक्सर करके स्त्री-पुरूष की तो विकार ...
by Adam
18 Jan 2020
Forum: Ideological Interpretation of the Yagya History: BK and PBK versions
Topic: SM & AV points for churning – Revised in 2020
Replies: 25
Views: 558

SM & AV points for churning – Revised in 2020

Sakar Murli Revised on 18.01.2020 अभी तो थोड़े बच्चे हैं, फिर अनेकानेक बच्चे हो जायेंगे। प्रजापिता ब्रह्मा को जानना तो सभी को है ना। सभी धर्म वाले मानेंगे। बाबा ने समझाया है, वह लौकिक बाप भी हद के ब्रह्मा हैं। उन्हों का सरनेम से सिजरा बनता है। यह फिर है बेहद का। नाम ही है प्रजापिता ब्रह्मा। वह हद के...
by Adam
17 Jan 2020
Forum: Ideological Interpretation of the Yagya History: BK and PBK versions
Topic: SM & AV points for churning – Revised in 2020
Replies: 25
Views: 558

SM & AV points for churning – Revised in 2020

Sakar Murli Revised on 17.01.2020 भगवान एक ही होता है। तो शिव भगवानुवाच किसके प्रति? रूहानी बच्चों प्रति। बाबा ने समझाया है, बच्चों का अब कनेक्शन है ही बाप से क्योंकि पतित-पावन ज्ञान का सागर, स्वर्ग का वर्सा देने वाला तो शिवबाबा ही ठहरा। याद भी उनको करना है। ब्रह्मा है उनका भाग्यशाली रथ। रथ द्वारा ह...
by Adam
16 Jan 2020
Forum: Ideological Interpretation of the Yagya History: BK and PBK versions
Topic: SM & AV points for churning – Revised in 2020
Replies: 25
Views: 558

SM & AV points for churning – Revised in 2020

Sakar Murli Revised on 16.01.2020 भगवानुवाच। भगवान ने ही समझाया है कि कोई मनुष्य को ‘भगवान’ नहीं कहा जा सकता। देवताओं को भी ‘भगवान’ नहीं कहा जाता। भगवान तो निराकार है, उनका कोई भी साकारी वा आकारी रूप नहीं है। सूक्ष्म-वतनवासियों का भी सूक्ष्म आकार है, इसलिए उसको कहा जाता है सूक्ष्मवतन। यहाँ साकारी मन...
by Adam
15 Jan 2020
Forum: Ideological Interpretation of the Yagya History: BK and PBK versions
Topic: SM & AV points for churning – Revised in 2020
Replies: 25
Views: 558

SM & AV points for churning – Revised in 2020

Sakar Murli Revised on 15.01.2020 अभी बाप तुमको कोई धक्का नहीं खिलाते हैं। भक्ति मार्ग में बाप को ढूंढने लिए तुम कितने धक्के खाते हो। बाप खुद कहते हैं, मैं हूँ ही गुप्त। इन आंखों से कोई मुझे देख नहीं सकते। कृष्ण के मन्दिर में माथा टेकने के लिए चाखड़ी रखते हैं, मुझे तो पैर हैं नहीं जो तुमको माथा टेकन...
by Adam
14 Jan 2020
Forum: Ideological Interpretation of the Yagya History: BK and PBK versions
Topic: SM & AV points for churning – Revised in 2020
Replies: 25
Views: 558

SM & AV points for churning – Revised in 2020

Sakar Murli Revised on 14.01.2020 गीत:- बचपन के दिन भुला न देना ... मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों ने गीत सुना। ड्रामा प्लैन अनुसार ऐसे-ऐसे गीत सलेक्ट किये हुए हैं। मनुष्य चिड़ित होते हैं कि यह क्या नाटक के रिकॉर्ड पर वाणी चलाते हैं। ‘यह फिर किस प्रकार का ज्ञान है? शास्त्र, वेद, उपनिषद आदि छोड़ दिये, अब र...
by Adam
13 Jan 2020
Forum: Ideological Interpretation of the Yagya History: BK and PBK versions
Topic: SM & AV points for churning – Revised in 2020
Replies: 25
Views: 558

SM & AV points for churning – Revised in 2020

Sakar Murli Revised on 13.01.2020 आत्मा जानती है हम परमपिता परमात्मा से अब तकदीर बनाने आये हैं। यह है प्रिन्स-प्रिन्सेज बनने की तकदीर। राजयोग है ना। शिवबाबा द्वारा पहले-पहले स्वर्ग के दो पत्ते राधे-कृष्ण निकलते हैं। यह जो चित्र बनाया है, यह ठीक है, समझाने के लिए अच्छा है। गीता के ज्ञान से ही तकदीर ब...
by Adam
12 Jan 2020
Forum: Ideological Interpretation of the Yagya History: BK and PBK versions
Topic: SM & AV points for churning – Revised in 2020
Replies: 25
Views: 558

SM & AV points for churning – Revised in 2020

Avyakt Vani 11.04.1985, Revised on 12.01.2020 आज विशेष विश्व परिवर्तन के आधार स्वरूप, विश्व के बेहद सेवा के आधार स्वरूप, श्रेष्ठ स्मृति, बेहद की वृत्ति, मधुर अमूल्य बोल बोलने के आधार द्वारा, औरों को भी ऐसे उमंग-उत्साह दिलाने के आधार स्वरूप, निमित्त और निर्माण स्वरूप, ऐसी विशेष आत्माओं से मिलने के लि...